भारत के लिए मध्य एशियाई देशों के साथ कनेक्टिविटी एक प्रमुख प्राथमिकता है : रामनाथ कोविन्द

Share News

@ नई दिल्ली

भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने कहा कि भारत के लिए मध्य एशियाई देशों के साथ कनेक्टिविटी एक प्रमुख प्राथमिकता है।उन्होंने आज 3 अप्रैल 2022 अश्गाबात स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनेशनल रिलेशन्स में तुर्कमेनिस्तान के युवा राजनयिकों को संबोधित किया।राष्ट्रपति ने कहा भारत अंतरराष्ट्रीय उत्तर-दक्षिण परिवहन गलियारे और अश्गाबात समझौता दोनों का एक सदस्य है।

हमने ईरान में चाबहार पत्तन के परिचालन के लिए कदम उठाए हैं जो मध्य एशियाई देशों के लिए समुद्र तक एक सुरक्षित व्यवहार्य और निर्बाध पहुंच प्रदान कर सकता है। उन्होंने आगे कहा कि कनेक्टिविटी का विस्तार करते हुए यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि इसकी पहल सभी देशों की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के संबंध में परामर्शी पारदर्शी और भागीदारीपूर्ण हो।राष्ट्रपति ने कहा कि भारत इस क्षेत्र में सहयोग निवेश और कनेक्टिविटी निर्माण के लिए तैयार है।

राष्ट्रपति ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में भारतीय विदेश नीति के प्रमुख क्षेत्रों में से एक मध्य एशियाई देशों के साथ हमारे ऐतिहासिक संबंधों का पुनरोद्धार रहा है जो हमारे विस्तारित पड़ोस का एक हिस्सा हैं।विकासशील देशों के रूप में भारत और मध्य एशियाई देश एकसमान परिप्रेक्ष्य और दृष्टिकोण साझा करते हैं।

हम आतंकवाद उग्रवाद कट्टरपंथ और नशीले पदार्थों की तस्करी आदि जैसी सामान्य चुनौतियों का सामना करते हैं।भारत के अधिकांश मध्य एशियाई देशों के साथ सामरिक संबंध भी हैं।यूक्रेन में जारी संघर्ष पर राष्ट्रपति ने कहा इस मुद्दे पर भारत की स्थिति दृढ़ और तार्किक रही है। हमने इस बात पर जोर दिया है कि मौजूदा वैश्विक व्यवस्था अंतरराष्ट्रीय कानून संयुक्त राष्ट्र चार्टर और क्षेत्रीय अखंडता व राज्यों की संप्रभुता के सम्मान में निहित है। हम बिगड़ती मानवीय स्थिति को लेकर बेहद चिंतित हैं। हमने हिंसा और शत्रुता को तत्काल समाप्त करने और बातचीत व कूटनीति के रास्ते पर लौटने का आह्वान किया है। हमने यूक्रेन को मानवीय सहायता भी प्रदान की है।

इससे पहले दिन की शुरुआत में राष्ट्रपति ने अश्गाबात में पीपुल्स मेमोरियल परिसर का दौरा किया और इटरनल ग्लोरी अनंत महिमा के स्मारक पर माल्यार्पण किया।इसके अलावा उन्होंने बाग्यारलिक खेल परिसर का भी दौरा किया जहां उन्होंने महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने पुष्पांजलि अर्पित की। साथ ही भारतीय प्रशिक्षक की देखरेख में तुर्कमेनिस्तान के लोगों का योग प्रदर्शन देखा।राष्ट्रपति कल सुबह 4 अप्रैल 2022 को तुर्कमेनिस्तान और नीदरलैंड की अपनी राजकीय यात्रा के अंतिम चरण में नीदरलैंड के लिए रवाना होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...