हज़ार राम मन्दिर’ हम्पी कर्नाटक भाग : १९१,पँ० ज्ञानेश्वर हँस “देव” की क़लम से

Share News

भारत के धार्मिक स्थल: हज़ार राम मन्दिर’ हम्पी कर्नाटक भाग:१९१

आपने पिछले भाग में पढ़ा भारत के धार्मिक स्थल : श्री कैलासा मन्दिर, एलोरा,औरँगाबाद, महाराष्ट्र! यदि आपसे उक्त लेख छूट गया अथवा रह गया हो और आपमें पढ़ने की जिज्ञासा हो तो आप प्रजा टूडे की वेब साईट www. prajatoday.com पर जाकर, धर्म- साहित्य पृष्ठ पर जाकर सकते हैं!

आज हम आपके लिए लाए हैं : भारत के धार्मिक स्थल: हज़ार राम मन्दिर’ हम्पी कर्नाटक भाग:१९१

‘हज़ार राम मन्दिर’ हम्पी, भारतवर्ष के राज्य कर्नाटक के प्रसिद्ध हिन्दू धार्मिक स्थलों में से एक है! यह भगवान विष्णु को समर्पित हम्पी क्षेत्र के सबसे लोकप्रिय मन्दिरों में से एक है! कर्नाटक राज्य के नगर हम्पी, इस मन्दिर के निर्माता कृष्णदेव राय विशेष मन्दिर श्रद्धालुओं के बीच अपनी निम्न उद्भूत नक्काशीदार मूर्तियों के लिए प्रसिद्ध है, जो रामायण में घटी महत्वपूर्ण घटनाओं का प्रतिनिधित्व करती हैं! हम्पी, विजयनगर साम्राज्य, कृष्णदेव राय ‘हज़ार राम मन्दिर’ के दर्शन करने आए पर्यटक भूतपूर्व राजाओं के शासन के दौरान अस्तित्व में रहे स्थापत्य और साँस्कृतिक विरासत की खोज कर सकते हैं!

हज़ार राम मन्दिर अथवा ‘हज़ारा राम मन्दिर’ हम्पी, कर्नाटक के प्रसिद्ध धार्मिक पर्यटन स्थलों में से एक है! हम्पी में बहुत-से ऐसे आकर्षण हैं, जो पर्यटकों को लुभातें हैं! अपने गौरवशाली इतिहास को दर्शाते हम्पी के कई पर्यटन स्थल विश्व विरासत स्थलों की सूची में शामिल हैं! राजा कृष्णदेव राय को इस मन्दिर का निर्माता कहा जाता है!

शाही परिधि के मध्य स्थित ‘हज़ार राम मन्दिर’ हम्पी के मुख्य आकर्षणों में से एक है! यह भगवान विष्णु को समर्पित हम्पी क्षेत्र के सबसे लोकप्रिय मन्दिरों में से एक है!
‘हज़ार राम मन्दिर’ हम्पी के राजा का निजी मन्दिर माना जाता है!

इस स्थान का इस्तेमाल केवल समारोहों के लिए किया जाता था और श्रद्धालुओं के बीच यह अपनी निम्न उद्भूत नक्काशीदार मूर्तियों के लिए प्रसिद्ध है, जो रामायण में घटी महत्वपूर्ण घटनाओं का प्रतिनिधित्व करती हैं! मन्दिर की भीतरी और बाहरी दीवारों पर बेहतरीन नक़्क़ाशी की गई है! बाहरी कमरों की छतों के ठीक नीचे बनी नक़्क़ाशी में हाथी, घोड़ा, नृत्य करती बालाओं और मार्च करती सेना की टुकड़ियों को दर्शाया गया है, जबकि भीतरी हिस्से में ‘रामायण’ और हिन्दू देवताओं के दृश्य दिखाए गए हैं! इसमें असंख्य पंखों वाले गरुड़ को भी चित्रित किया गया है!

मन्दिर में चार नक़्क़ाशीदार ग्रेनाइट के स्तंभ अर्द्ध मंड़प की खूबसूरती को बढ़ाते हैं! ‘हज़ार राम मन्दिर’ के दर्शन करने आए पर्यटक भूतपूर्व राजाओं के शासन के दौरान अस्तित्व में रहे स्थापत्य और सांस्कृतिक विरासत की खोज कर सकते हैं!

मन्दिर की बाहरी दीवारों पर की गई नक़्क़ाशियाँ इसकी एक ख़ास बात है। यहाँ भगवान बुद्ध की एक प्रतिमा स्थापित है, जो भगवान विष्णु के नौवें अवतार थे! ‘जनानख़ाना’ और ‘कमल महल’ हज़ार राम मन्दिर के निकट स्थित अन्य आकर्षण स्थल हैं!

हम्पी एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है जो कर्नाटक के बल्लारी (बेल्लारी) जिले में तुंगभद्रा नदी के तट पर स्थित है! यह होसपेट से सिर्फ १३ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और बैंगलोर से हम्पी की दूरी मुश्किल से ३५० किलोमीटर है! प्राचीन स्थल विजयनगर साम्राज्य के विभिन्न खंडहरों से युक्त है और साथ ही यहां आप पहली शताब्दी की मानव बस्ती के कई प्रमाण भी देख सकते हैं! भारत के पुरातात्विक स्थलों में से एक होने की वजह से यहां कई पर्यटक दूर-दूर से इस जगह पर यात्रा करने के लिए आते हैं! इस जगह तक पहुंचने के लिए कई सड़क मार्ग, उड़ानों और ट्रेनों की सुविधाएं मौजूद है!

आपको हम्पी कैसे पहुंचा जाए:-

बंगलौर, मुंबई, पुणे और बेल्लारी जैसे प्रमुख शहरों से हम्पी (या होस्पेट) के लिए बसें हैं। NH-४ बैंगलोर को हम्पी से जोड़ता है और यहां पहुंचने में लगभग ७ घंटे लगते हैं! होसपेट से, स्थानीय सरकारी बस द्वारा यहां पहुंचने में लगभग 40 से 50 मिनट लगते हैं! जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क पहुंचने से जुड़ी सारी जानकारियां मिलेंगी यहां, आप भी जानें कैसे पहुंचें:-

हवाई मार्ग से कैसे पहुँचे

हम्पी के लिए निकटतम हवाई अड्डा, बेल्लारी मंदिर शहर से ६) किलोमीटर दूर है! हुबली हवाई अड्डा एक अन्य हवाई अड्डा है जो हम्पी से १४३ किलोमीटर दूर है! इसके अलावा, तोरणगल्लू में जेएसडब्ल्यू विद्यानगर हवाई अड्डा हम्पी से लगभग ४० किलोमीटर दूर स्थित है! हम्पी के निकटतम हवाई अड्डे, बल्लारी में उतरने के बाद, पर्यटक स्थानीय परिवहन द्वारा आसानी से हम्पी पहुंच सकते हैं!

रेल मार्ग से कैसे पहुँचे

हम्पी शहर में कोई रेलवे स्टेशन नहीं है। हालाँकि, हम्पी का निकटतम रेलवे स्टेशन होसपेट में है। होस्पेट जंक्शन रेलवे स्टेशन हम्पी से लगभग १३ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है! होस्पेट बैंगलोर, हैदराबाद, हुबली, चेन्नई, विजयवाड़ा, तिरुपति, पंजिम, कोलकाता, मैसूर, अजमेर, जोधपुर, कोल्हापुर और शिरडी से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है! बैंगलोर से हम्पी कई ट्रेनें चलती हैं। बेंगलुरु, हैदराबाद और गोवा से सप्ताह में कई बार रात में ट्रेनें चलती हैं। होसपेट से हम्पी तक पहुंचना वैसे काफी आसान है, आपको बता दें, होसपेट बस स्टेशन से हम्पी के लिए हर २५ मिनट में राज्य बसें चलती हैं। आप होस्पेट से हम्पी के लिए सीधे ऑटो भी ले सकते हैं!

सड़क मार्ग से कैसे पहुँचे

हम्पी तक पहुँचने के लिए सड़क मार्ग सबसे सुविधाजनक हैं – पास के शहर होसपेट में बैंगलोर और मुंबई/पुणे/कोल्हापुर से सड़कें अच्छे से जुडी हुई हैं! बहुत सी आरामदायक एसी स्लीपर बसें मुंबई/बैंगलोर से होसपेट के लिए चलती हैं! हम्पी बेंगलुरु से लगभग ३७० किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और बैंगलोर से हम्पी पहुंचने में लगभग ७ घण्टे लगते हैं! बेंगलुरु और हम्पी दोनों सड़कों द्वारा एक दूसरे से अच्छे से जुड़ा है! कर्नाटक राज्य सड़क परिवहन निगम बैंगलोर, मैसूर और गोकर्ण से होसपेट के लिए दैनिक बसें संचालित करता है! होसपेट से आप २० रुपए में स्थानीय बस से हम्पी जा सकते हैं! यदि आप कोच या एयर-कॉन सेवा चाहते हैं तो अपने टिकट पहले से बुक कर लें, क्योंकि यहाँ जाने के लिए यात्रियों की भीड़ बहुत देखी जाती है और बसों की सँख्या यहां तक के लिए कम है!

गोवा की ज्यादातर जगहों से और गोकर्ण की भी कई जगहों से हम्पी के लिए रात भर कई सेवाएं चलती हैं! वैसे हम्पी से कोई सीधी वापसी का विकल्प मौजूद नहीं है, इसलिए आपको पहले होस्पेट आना होगा, जहां से आप स्थानीय बस या टैक्सी लेकर वापस जा सकते हैं! होसपेट बस स्टेशन से हम्पी के लिए सार्वजनिक बसें नियमित हैं!

बेंगलुरु से हम्पी कार द्वारा -३५० किलोमीटर की दूरी लगभग ८ घण्टों में तय की जा सकती है! इन सड़क मार्ग के बीच कई कैब सेवाएं संचालित होती है या फिर आप कैब ऑपरेटर की मदद से बजट के अनुसार कैब सेवा ले सकते हैं! इन सबके अलावा आप ओला, उबर या मेरु द्वारा प्रदान की जाने वाली आउटडोर सर्विस का भी विकल्प चुन सकते हैं!

दिल्ली से आप अपनी कार अथवा बस से ३४ घण्टे १० मिनट्स में राष्ट्रीय राजमार्ग NH-५२ से १,८९३.६ किलोमीटर की यात्रा करके आसानी से पहुँच जाओगे!

हज़ार राम की जय हो! जय घोष हो!!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...