किसनों की मांगें मानने की जगह केजरीवाल का उनसे न मिलना दुर्भाग्यपूर्ण : आदेश गुप्ता

Share News

@ नई दिल्ली

केंद्रीय राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी ने कहा कि केजरीवाल ने पिछले सात सालों में जो-जो वायदे किये उनमें से एक भी वायदा पूरा नहीं किया। सिर्फ चुनाव के वक्त बड़े-बड़े वायदे करना, झूठ बोलना एवं जनता को भ्रमित करने का काम करना केजरीवाल की राजनीति का हिस्सा है और जब जनता के लिए काम करने का समय आये तो भाग जाना ही उनकी पुरानी आदत है।

आज किसानों की मांगों को केजरीवाल सरकार द्वारा पूरा न करने के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शन में उन्होंने कहा कि यह बेहद शर्मनाक है कि दिल्ली के किसान खुद को किसानों का दर्जा पाने के लिए आम आदमी पार्टी सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन कर रहे हैं।

धरना प्रदर्शन के इस मौके पर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता, नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद मनोज तिवारी एवं सांसद रमेश बिधूड़ी, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं विधायक विजेंद्र गुप्ता, प्रदेश महामंत्री कुलजीत सिंह चहल, हर्ष मल्होत्रा और किसान मोर्चा अध्यक्ष विनोद सहरावत  सहित प्रदेश, मोर्चा, जिला के पदाधिकारी एवं हजारों की संख्या में आये किसान भी मौजूद थे।

मीनाक्षी लेखी ने कहा कि आज दिल्ली में किसानो द्वारा पिछले 40 दिनों से चल रहे विरोध प्रदर्शन को हम आगे केंद्र सरकार के पास लेकर जाएंगे और उनके सामने किसानों की समस्या रखेंगे, क्योंकि अब दिल्ली में परिवर्तन की जरूरत है। उन्होंने कहा कि आज एमसीडी के विद्यालय नहीं होते और हर वार्ड में खुले डिस्पेंसरी नहीं होती तो केजरीवाल के शिक्षा और स्वस्थ्य मॉडल की और भी बदतर स्थिति होती। इसलिए भाजपा हमेशा से ही दिल्ली की बेहतरी के लिए काम करती रही है और आगे भी करती रहेगी।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने कहा कि केजरीवाल का कार्य मॉडल इसी से समझा जा सकता है कि गांव के किसानों से जमीन स्कूल, सामुदायिक भवन एवं विकास के नाम पर लेकर उसपर हज हाउस बनवा रहे हैं। दिल्ली में बैठी ऐसी सरकार है जिसके पास 40 दिनों से बैठे किसानों के दुख-दर्द को समझने के लिए समय नहीं है। उन्होंने कहा कि आज का हमारा संघर्ष व्यर्थ नहीं जाएगा। केजरीवाल सरकार की सच्चाई किसी से छिपी नहीं है। आज दिल्ली के गांव के खेतों में पिछले सात सालों से पानी भरा है जिसकी निकासी आज तक नहीं हो पाई।

आदेश गुप्ता ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आज 11 करोड़ किसानों को किसान सम्मान निधि दी जा रही है। दिल्ली में कई सारे काम किये हो रहे हैं। इसके साथ ही लैंड पुलिंग पालिसी में भी संसोधन किया जा रहा है ताकि इसे और आसान किया जा सके। उन्होंने कहा कि केजरीवाल दूसरे राज्यों में जाकर झूठ बोलते हैं कि दिल्ली में एमएसपी पर किसानो से अनाज खरीदे जा रहे हैं, जबकि यहां किसानों को उनका ना अधिकार दिया जा रहा है और ना ही उन्हें किसानों का दर्जा।

नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने कहा कि जिस तरह से किसानों ने पिछले 40 दिनों से अपनी मांगों को लेकर लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, उसकी गूंज 23 तारीख से शुरू हो रहे विधानसभा सत्र में भी सुनाई देगी। किसानो को उनके संघर्ष के लिए धन्यवाद देते हुए बिधूड़ी ने कहा कि मोहम्मद गोरी एवं मुहम्मद गजनवी जैसे अतिक्रमणकारियों ने जिस तरह से दिल्ली को लूटने का काम किया था ठीक उसी प्रकार अरविंद केजरीवाल दिल्ली को लूट रहे हैं। दिल्ली के 128 गांव के किसानों की फसल बरसात के कारण बर्बाद हो गई जिसकी भरपाई के लिए 50,000 रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से हमने मांग की, लेकिन केजरीवाल ने मुआवजा तो दूर गांव में जाना भी जरूरी नहीं समझा। पिछले सात सालों से किये जा रहे एक भी वायदा केजरीवाल ने पूरा नहीं किया चाहे वह 81(ए) खत्म करने की बात हो या किसानों को मुफ्त बिजली देने की बात हो।

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद मनोज तिवारी ने कहा कि उत्तर प्रदेश सहित अन्य भाजपा शासित राज्यों में किसानों को सिंचाई के लिए मुफ्त में बिजली दी जाती हैं, जबकि दिल्ली में इसे कामर्शियल दर पर वसूला जा रहा है। उन्होंने कहा कि किसी किसान की मृत्यु होने पर उसके बेटे के नाम जमीन तक नहीं करने दिया जा रहा, अब इससे शर्मनाक और क्या हो सकता है। आप सभी को इस बहरी और अंधी सरकार की सच्चाई घर-घर जाकर बताने की जरूरत है। क्योंकि पिछले 7 सात सालों में सरकार एक भी स्कूल नहीं बना पाई जबकि दिल्ली के सभी सांसदों ने अपने संसदीय क्षेत्र में तीन-तीन स्कूल का निर्माण करवाया है।

सांसद रमेश बिधूड़ी ने कहा कि अपने ही जमीन पर कोई भी काम करने के लिए आज दिल्ली के किसानों को सरकार के पदाधिकारियों के सामने गिड़गिड़ाना पड़ता है और एक मोटी रिश्वत देनी पड़ती है। किसानों के नाम का सहारा लेकर खालिस्तानियों ने धरना दिया जिसको पूरा समर्थन देने केजरीवाल पहुँचे थे, लेकिन आज 40 दिनों से धरने पर बैठे अपने ही किसानों की समस्या सुनने तक का समय नहीं है। उन्होंने केजरीवाल को संवेदनहीन व्यक्ति करार देते हुए कहा कि केजरीवाल ने अपने रवैये से साफ कर दिया कि वह किसानों के हितैषी कभी नहीं हो सकते।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...