कोयला मंत्रालय ने कोकिंग कोयला उत्पादन में वृद्धि की योजना तैयार

Share News

@ नई दिल्ली

भारत ने वित्त 2021-22 के दौरान 51.7 मिलियन टन कच्चे कोकिंग कोल का उत्पादन किया है, जो वित्त वर्ष 2015 के दौरान 44.8 मीट्रिक टन के उत्पादन की तुलना में 15 प्रतिशत अधिक है।मई 2022 तक के आंकड़ों के अनुसार, घरेलू कच्चे कोकिंग कोल का उत्पादन चालू वित्त वर्ष में 8.3 एमटी के उत्पादन के साथ लगातार बढ़ रहा है, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 6.9 एमटी के उत्पादन की तुलना में 20 प्रतिशत अधिक है।

वर्तमान में, घरेलू कच्चे कोकिंग कोल की धुलाई की क्षमता लगभग 23 मीट्रिक टन प्रति वर्ष है, जिसमें निजी क्षेत्र की 9.26 मीट्रिक टन शामिल है। कोल इंडिया लिमिटेड 30 एमटीपीए की क्षमता वाली नौ और नई वाशरीज स्थापित करने और संचालित करने की योजना बना रही है। नई वाशरीज की स्थापना के साथ, यह अनुमान है कि सीआईएल इस्पात क्षेत्र को लगभग 15 मीट्रिक टन वॉश किए हुए कोकिंग कोयले की आपूर्ति करने में सक्षम होगी, जिससे कोकिंग कोयले का आयात कम होगा।

देश में कोकिंग कोयले की तेजी से बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए क्षमता बढ़ाने के लिए और अधिक वाशरी स्थापित करने की आवश्यकता है।वित्त वर्ष 22 के दौरान, सीआईएल ने इस्पात क्षेत्र को 1.7 मीट्रिक टन वॉश किए हुए कोकिंग कोयले की आपूर्ति की और वित्त वर्ष 2023 के दौरान 3.45 मीट्रिक टन का लक्ष्य रखा है।

कोयला मंत्रालय ने कच्चे कोकिंग कोल उत्पादन को और बढ़ाने के लिए, पिछले दो वर्षों के दौरान 22.5 मीट्रिक टन के पीआरसी के साथ निजी क्षेत्र को 10 कोकिंग कोल ब्लॉकों की नीलामी की है। इनमें से अधिकांश ब्लॉकों में 2025 तक उत्पादन शुरू होने की उम्मीद है मंत्रालय ने चार कोकिंग कोल ब्लॉकों की भी पहचान की है और सेंट्रल माइन प्लानिंग एंड डिजाइन इंस्टीट्यूट (सीएमपीडीआई) भी अगले दो महीनों में 4 से 6 नए कोकिंग कोल ब्लॉक के लिए जीआर को अंतिम रूप देगा। देश में घरेलू कच्चे कोकिंग कोल की आपूर्ति को और अधिक बढ़ाने के लिए निजी क्षेत्र के लिए नीलामी के बाद के दौर में इन ब्लॉकों की पेशकश की जा सकती है।

सीआईएल ने मौजूदा खानों से कच्चे कोकिंग कोल उत्पादन को 26 एमटी तक बढ़ाने की योजना बनाई है और वित्त वर्ष 2025 तक लगभग 20 एमटी पीआरसी के साथ नौ नई खानों की पहचान की है इसके अलावा, सीआईएल ने लगभग 2 एमटी की अपेक्षित पीआरसी के साथ निजी क्षेत्र को राजस्व बंटवारे के एक अभिनव मॉडल पर कुल 20 बंद खानों में से छह बंद कोकिंग कोल खानों की पेशकश की है।

कोयला मंत्रालय द्वारा प्रधानमंत्री की ‘आत्मनिर्भर भारत’ पहल के तहत किए गए इन परिवर्तनकारी उपायों के साथ, घरेलू कच्चे कोकिंग कोल का उत्पादन 2030 तक 140 मीट्रिक टन तक पहुंचने की संभावना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...