महिलाएँ स्व-रोजगार स्थापित कर दूसरों को भी दे रही हैं रोजगार

Share News

@ भोपाल मध्यप्रदेश

प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में स्व-सहायता समूहों के रूप में संगठित महिलाएँ स्व-रोजगार स्थापित कर न केवल स्वयं आत्म-निर्भर बन रही हैं, अपितु बहुत से परिवारों को रोजगार प्रदान कर रही हैं। मध्यप्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन की सहायता से समूह का गठन, आर्थिक सहायता, तकनीकी व कौशल प्रशिक्षण प्राप्त कर ये महिलाएँ अपना कार्य दक्षता के साथ कर रही हैं।

नर्मदापुरम जिले के माखन नगर एवं सोहागपुर विकासखंडों में 120 महिला स्व-सहायता समूह का कलस्टर बनाकर नाबार्ड के सहयोग से हाईटेक सिलाई सेंटर्स की स्थापना की गई है। इनमें महिलाओं द्वारा लोवर, केपरी, बरमूडा, पेटीकोट, सलवार-सूट आदि परिधान तैयार किये जा रहे हैं। महिलाओं के संकुल स्तरीय संघ बनाये गये हैं और उन्हें तकनीकी प्रशिक्षण व वित्तीय सहयोग प्रदान किया जा रहा है। उनके उत्पाद स्थानीय एवं जिला बाजार में विक्रय होने के साथ ही आजीविका मार्ट पोर्टल द्वारा ऑनलाइन भी बिक रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...