मुख्यमंत्री ने सुलह विधानसभा क्षेत्र में विकासात्मक परियोजनाओं का उदघाटन किया

Share News

@ शिमला हिमाचल

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कांगड़ा जिला के सुलह विधानसभा क्षेत्र में 234.24 करोड़ रुपये की लागत की विभिन्न विकासात्मक परियोजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास किए। मुख्यमंत्री ने नागनी में एक विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि सुलह खंड के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि एक बार में ही 234 करोड़ रुपये से अधिक की विकासात्मक परियोजनाओं की  आधारशिलाए व शिलान्यास किए गए है।
 
उन्होंने 78.36 करोड़ रुपये की 26 परियोजनाओं के उद्घाटन किए, जिसमें 1.97 करोड़ रुपये लागत की मंगेहड़-पीरा सड़क, 1.03 करोड़ रुपये लागत की भवरवा-हेंजा सड़क, 2.05 करोड़ रुपये लागत की डुहक-गरठूं सड़क, 2.19 करोड़ रुपये लागत की थुरल-भट्टी-लाहड़-पंघ सड़क शामिल हैं।
 
2.51 रुपये लागत की भवारना-थंडोल सड़क, 10.93 करोड़ रुपये की धीरा-देवी टिल्ला सड़क, 1.76 करोड़ रुपये की रौड़ा धट्टी और आसपास के गांवों के लिए उठाऊ सिंचाई योजना, 1.96 करोड़ रुपये उठाऊ सिंचाई योजना मरहूं, 1.36 करोड़ रुपये लिफ्ट सिंचाई योजना कुराल और 1.19 करोड़ रुपये उठाऊ सिंचाई योजना पुडवा शामिल हैं। 
 
मुख्यमंत्री ने सुलह विधानसभा क्षेत्र में 155.86 करोड़ रुपये की 25 विभिन्न विकासात्मक परियोजनाओं का शिलान्यास किया, जिसमें जय राम ठाकुर ने 30.37 करोड़ रुपये की सुलह में पॉलीटेक्निकल कॉलेज भवन, 1.21 करोड़ रुपये की लागत से थुरल में खण्ड प्राथमिक शिक्षा कार्यालय भवन, 1.15 करोड़ रुपये से राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय मरहूं के अतिरिक्त खण्ड, 1.15 करोड़ रुपये की लागत से राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय कियारवां का अतिरिक्त खण्ड, 92 लाख रुपये की सनहूं उठाऊ सिंचाई योजना और 90 लाख रुपये की बुक ग्रेविटी सिंचाई योजना शामिल हैं।
 
मुख्यमंत्री ने कोविड-19 महामारी और इस तरह के विश्वव्यापी खतरे से निपटने के लिए केंद्र सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि केंद्र द्वारा अपनाई गई रणनीतियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गतिशील नेतृत्व में लोगों के विश्वास को और अधिक गहरा किया है। उन्होंने हिमाचल द्वारा टीकाकरण अभियान में शीर्ष स्थान प्राप्त करने का श्रेय विभिन्न विभागों और हिमाचल प्रदेश के लोगों को दिया।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने गरीब और कमजोर वर्गों के कल्याण को सर्वोच्च प्राथमिकता प्रदान की है। वर्तमान राज्य सरकार ने अपने मंत्रिमंडल की पहली बैठक में वृद्धावस्था पेंशन की आयु सीमा 80 वर्ष से घटाकर 70 वर्ष करने का निर्णय लिया। अब इसे घटाकर 60 वर्ष किया गया है ताकि सभी जरूरतमंद एवं पात्र व्यक्तियों को लाभान्वित किया जा सके।
 
विधानसभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए सुलह विधानसभा क्षेत्र में विभिन्न परियोजनाएं लोगों को समर्पित करने तथा 155 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाओं के शिलान्यास के लिए उनका आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि पिछले चार वर्षों के दौरान सुलह विधानसभा क्षेत्र अभूतपूर्व विकास का गवाह बना है। उन्होंने कहा कि सुलह विधानसभा क्षेत्र में जल शक्ति विभाग की लगभग 275 करोड़ रुपये लागत की विभिन्न परियोजनाओं और योजनाओं का कार्य प्रगति पर है।
 
कार्यक्रम के दौरान प्रधानाचार्य और मुख्य अध्यापक संघ ने मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए मुख्यमंत्री को एक लाख एक हजार रुपये का चैक और राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय डरोह के प्रधानाचार्य ने इस फंड के लिए 21 हजार रुपये का चेक भेंट किया।सांसद कांगड़ा संसदीय क्षेत्र किशन कपूर, विधायक बैजनाथ विधानसभा क्षेत्र मुल्खराज प्रेमी । 
 
विधायक नगरोटा अरूण कुमार, विधायक जयसिंहपुर रविन्द्र धीमान, वूल फेडरेशन के अध्यक्ष त्रिलोक कपूर, कांगड़ा केंद्रीय सहकारी बैंक के अध्यक्ष डॉ. राजीव भारद्वाज, पूर्व विधायक प्रवीण शर्मा और दूलो राम, जिला परिषद के अध्यक्ष रमेश बराड़, भाजपा जिला अध्यक्ष चंद्र भूषण नाग और हरी दत शर्मा, उपायुक्त डॉ. निपुण जिंदल, मीडिया कॉरडिनेटर विश्व चक्षु और अन्य गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे। 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...