मुक्तसर साहिब गुरुद्वारा ज़िला मुक्तसर, पँजाब भाग : १७५,पँ० ज्ञानेश्वर हँस “देव” की क़लम से

Share News

भारत के धार्मिक स्थल: मुक्तसर साहिब गुरुद्वारा ज़िला मुक्तसर, पँजाब भाग :१७५

आपने पिछले भाग में पढ़ा भारत के धार्मिक स्थल : पातालपुरी साहिब गुरुद्वारा, रोपड़, पँजाब! यदि आपसे उक्त लेख छूट गया अथवा रह गया हो और आपमें पढ़ने की जिज्ञासा हो तो आप प्रजा टूडे की वेब साईट पर जाकर, धर्म- साहित्य पृष्ठ पर जाकर पढ़ सकते हैं!

 आज हम आपके लिए लाए हैं : भारत के धार्मिक स्थल: मुक्तसर साहिब गुरुद्वारा ज़िला मुक्तसर, पँजाब भाग :१७५

मुक्तसर को मुक्तसर साहिब भी बुलाया जाता है, भारत के पँजाब राज्य के श्री मुक्तसर साहिब ज़िले में स्थित एक नगर और नगरपंचायत है! यह ज़िले का मुख्यालय भी है! यह ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण स्थान है! इसी जगह पर श्री गुरु गोबिन्द सिंह जी ने मुगलों के विरूद्ध १७०५ ई. में आखिरी लड़ाई लडी थी। इस लड़ाई के दौरान गुरू जी के चालीस शिष्य शहीद हो गए थे। गुरू जी के इन चालीस शिष्यों को चालीस मुक्तों के नाम से भी जाना जाता है। इन्हीं के नाम पर इस जगह का नाम मुक्तसर रखा गया था!

गुप्‍तसर गुरूद्वारा मुक्तसर जिले में चैतन्य के समीप स्थित है! इस जगह की स्थापना गुरू गोविन्द सिंह ने की थी! गुरू गोविन्द सिंह जी इस जगह पर अपने सैनिकों को उनकी तनख्वाह बांटा करते थे! एक दिन एक सैनिक ने पैसे लेने से मना कर दिया और कहा कि वह केवल उनसे आध्यामिक ज्ञान की प्राप्ति करना चाहता हैं! सैनिक द्वारा यह शब्द कहे जाने पर गुरू जी ने कुछ पैसे गुप्त स्थान में रख दिए। इसके बाद से इस जगह को गुप्‍तसर के नाम से जाना जाता है!

गुरुद्वारा मुक्तसर जिले में स्थित गुरूद्वारा श्री दतन सर साहिब पंजाब राज्य स्थित प्रमुख सिख गुरूद्वारों में से एक है! इस गुरूद्वारे का निर्माण सिक्खों के दसवें गुरू, गुरू गोविन्द सिंह के सम्मान में करवाया गया था! माना जाता है कि गुरू साहिब को मुगलों का एक सैनिक पीछे से मारने के लिए आया था!

गुरू जी ने उसको मार दिया था! यह गुरूद्वारा उसी जगह पर स्थित है जिस जगह पर यह घटना हुई थी! गुरूद्वारे के समीप में ही मुगल सैनिक का मकबरा बना हुआ है! इस जगह पर सभी प्रमुख सिख उत्सव बहुत ही धूमधाम के साथ मनाए जाते हैं! १२ और १३ जनवरी को प्रत्येक वर्ष माघी मेला लगता है। काफी संख्या में पर्यटक इस मेले में आते हैं। यह गुरूद्वारा तूती गांधी साहिब यहां से ३ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है!

वायु मार्ग से कैसे पहुँचें मन्दिर :

सबसे निकटतम हवाई अड्डा चण्डीगढ़ विमानक्षेत्र और अमृतसर विमानक्षेत्र है! इंडियन एयरलाइंस की फ्लाइटें नियमित रूप से दिल्ली, लखनऊ, लेह आदि से चंडीगढ़ और अमृतसर के उड़ान भरती है!

रेल मार्ग से कैसे पहुँचें मन्दिर :

मुक्तसर रेल मार्ग द्वारा कई महत्वपूर्ण शहरों से जुड़ा हुआ है!

सड़क मार्ग से कैसे पहुँचें मन्दिर :

मुक्तसर भारत के कई प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है! दिल्ली से आप बस या कार से ६ घण्टों ५६मिन्ट्स में ३८३.३ किलोमीटर की दूरी तय करके राष्ट्रीय राजमार्ग NH-४४ द्वारा पहुँच जाओगे!

मुक्तसर साहिब की जय हो! जयघोष हो!!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...