पातालपुरी साहिब गुरुद्वारा रोपड़, पँजाब भाग :१७४,पँ० ज्ञानेश्वर हँस “देव” की क़लम से

Share News

भारत के धार्मिक स्थल: पातालपुरी साहिब गुरुद्वारा रोपड़, पँजाब भाग :१७४

आपने पिछले भाग में पढ़ा भारत के धार्मिक स्थल : आनन्दपुर साहिब गुरुद्वारा, रूपनगर, पँजाब! यदि आपसे उक्त लेख छूट गया अथवा रह गया हो और आपमें पढ़ने की जिज्ञासा हो तो आप प्रजा टूडे की वेब साईट पर जाकर, धर्म- साहित्य पृष्ठ पर जाकर पढ़ सकते हैं!

आज हम आपके लिए लाए हैं : भारत के धार्मिक स्थल: पातालपुरी साहिब गुरुद्वारा रोपड़, पँजाब भाग :१७४

भारत वर्ष के पंजाब राज्य के ज़िला रूपनगर में स्थापित १६२७ में गुरु हरगोबिंद साहिब जी बोली: आधिकारिक पंजाबी निकटतम शहर श्री आनंदपुर साहिब किरतपुर साहिब टाउन रूपनगर ज़िले में कीरतपुर साहिब की अवस्थिति किरतपुर साहिब की स्थापना छठे गुरु श्री हरगोबिंद साहिब ने की थी! यहाँ सातवें और आठवें गुरुओं का जन्म और पालन-पोषण हुआ!

यहीँ पर गुरु गोबिंद सिंह जी ने अपने अनुयायियों के साथ १६७५ में भाई जैता द्वारा दिल्ली से लाए गए नौवें गुरु श्री तेग बहादुर के पवित्र सिर को बड़ी श्रद्धा और सम्मान के साथ प्राप्त किया था! इसके साथ जुड़े और पवित्र स्थान के रूप में जाना जाता है! गुरुद्वारा बबनगढ़ साहिब! दसवें गुरु अपने पिता के पवित्र सिर को एक जुलूस में अँतिम सँस्कार के लिए आनँदपुर साहिब ले गए! पँजाब सरकार ने यहां एक स्तँभ का निर्माण किया है, जिस पर श्री गुरु तेग बहादुरजी की अद्वितीय शहादत का वर्णन करते हुए गुरु गोबिंद सिंह का निम्नलिखित उद्धरण अंकित है:”भगवान गुरु तेग बहादुर साहिब ने उनके पेस्ट मार्क (तिलक) की रक्षा की और पवित्र धागा एक महान कार्य उन्होंने काल (अंधेरे) के युग में किया था”!

यह शहर और इसके कई गुरुद्वारे सिक्खों के लिए पवित्र स्थान हैं; क्योंकि कई सिक्ख गुरु यहाँ आए थे,पैदा हुए थे और यहीँ रहते थे! पास ही सतलुज नदी में कई गुरुओं की अस्थियाँ विसर्जित की गईं! आज भी कई सिक्ख यहाँ नदी में अपनों की अस्थियाँ विसर्जन करने हेतु आते हैं! १६४४ में गुरु हरगोबिंद साहिब और १६७१ में गुरुहरराय साहिब का अँतिम सँस्कार यहाँ किया गया था! गुरु हरकृष्ण की अस्थियाँ दिल्ली से यहाँ लाई गईं और १६६४ में यहाँ विसर्जित की गईं! यहाँ से गुरुद्वारा १ किलोमीटर वर्ग से अधिक की भूमि के एक बड़े भूखंड में स्थित है और पास में स्थित एक लँगर हॉल के साथ एक बड़ा दरबार साहिब है! शौचालय और शॉवर सुविधाओं के पास एक छोटा सरोवर स्थित है! भक्तों को नदी के किनारे से जोड़ने के लिए एक फुटब्रिज स्थित है! गुरुद्वारा मैदान में पर्याप्त कार पार्किंग की जगह उपलब्ध है! गुरुद्वारे का मुख्य प्रवेश द्वार मुख्य भवन के पीछे से है! गार्डन और लिविंग रूम मुख्य भवन के दाईं ओर स्थित हैं!

गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब, यह प्रसिद्ध ऐतिहासिक गुरुद्वारा सतलुज नदी के तट पर कीरतपुर साहिब में स्थापित है! मुख्य गुरुद्वारा का दर्शन मण्डप विशाल है! लगभग १५० × ८० फुट लम्बा चौडा है! मण्डप के बीच में सँगमरमर की पालकी साहिब में श्री गुरुग्रंथसाहिब विराजमान है! चारों ओर परिक्रमा मार्ग है!

गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब एक विशेष गुरुद्वारा है! इसमे हरिद्वार और काशी की तरह सिख समुदाय मृत सदस्य की अस्थियाँ प्रवाहित करने आते है! अतः यह सिक्ख समुदाय का विशेष तीर्थ है! गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब २५ एकड़ के क्षेत्रफल में फैला हुआ है! लँगर हाल, अतिथि गृह, जिसमें १५० से अधिक कमरे है, दस हाल एवं कार्यालय निर्मित है! परिसर में स्नान हेतु सरोवर है जिसमें भक्तगण स्नान करते है!

गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब का निर्माण:

गुरुद्वारा श्री पाताल पुरी साहिब का निर्माण लोपोन के भाई दरबारा सिंह ने करवाया था! जब भाई दरबारा इंग्लैंड से भारत लौटे थे, तो कई अंग्रेज लोग श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी पर उनके प्रवचन से प्रभावित थे और उन्होंने उनके साथ आने और पवित्र गुरुद्वारों को देखने का फैसला किया था! कीरतपुर साहिब पहुँचने पर अंग्रेजों को किरतपुर का महत्व बताया गया कि किस प्रकार मृतक की अस्थियों को नदी में बहाया जाता है, लेकिन अंग्रेज इस बात से चकित थे कि एक पवित्र स्थान का निर्माण नहीं किया गया था और यह जंगल और जँगल के बीच क्यों था!

उनकी आवाज में निराशा सुनने के बाद भाई दरबारा ने श्री गुरु हरगोबिंद साहिब जी के पार्थक दर्शन किए! इस दृष्टि को गुरुद्वारे का निर्माण शुरू करने के सँकेत के रूप में समझते हुए, भाई दरबारा ने १८ मई १९७६ को लुधियाना में संगत को गुरुद्वारा पाताल पुरी बनाने की योजना की घोषणा की! उस समय एसजीपीसी के जत्थेदार मोहन सिंह तुरह थे, जिन्हें बुलाया गया था! निर्माण शुरू करने के लिए नियामक प्रावधानों को पारित करने के लिए! गुरुद्वारा का निर्माण किया गया था और पूरा होने पर संगत और एसजीपीसी को दिया गया था! गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब में सम्पूर्ण वर्ष में लगभग ४० से ५० लाख श्रृद्धालु दर्शन करने आते है!

इसके अलावा होला मोहल्ला, वैसाखी, तथा नयनादेवी मेला के अवसर पर यहां विशेष आयोजन होते है तथा इन अवसरों पर भक्तों की भीड़ काफी बढ़ जाती है!

यह क्षेत्र एक मुस्लिम सँत, पीर बुद्दनशाह की स्मृति से भी जुड़ा हुआ है! जिन्हें बहुत लम्बे जीवन का उपहार दिया गया था! स्थानीय किंवदंतियोंनुसार है कि लगभग ८०० वर्ष पूर्व है)! गुरुद्वारा सतलुज नदी के तट पर आनँदपुर से लगभग १० किलोमीटर दक्षिण में और रूपनगर से लगभग ३० किलोमीटर उत्तर में स्थित है! यह नंगल-रूपनगर-चण्डीगढ़ मार्ग पर है!

वायु मार्ग से कैसे पहुँचें मन्दिर :

नज़दीकी हवाईअड्डा चण्डीगढ़ का है! जहाँ से ७ घण्टे से अधिक सड़क मार्ग में लग सकते हैं!

रेल मार्ग से कैसे पहुँचें मन्दिर :

नई दिल्ली से कीरतपुर साहिब के लिए सीधी ट्रेन है/हैं! यह/ये ट्रेन ०२०५७ आदि हैं/हैं! नई दिल्ली से एक ट्रेन द्वारा लिया गया न्यूनतम समय ५ घंटे ५७ मिन्ट्स है! नई दिल्ली से किरतपुर साहिब तक पहुँचने का सबसे सस्ता तरीका किरतपुर साहिब के लिए ट्रेन है और इसमें ६ घंटे ५७ मिन्ट्स का समय लगता है!

सड़क मार्ग से कैसे पहुँचें मन्दिर :

दिल्ली से आप बस या कार से ५ घण्टों ३६मिन्ट्स में ३०४.९ किलोमीटर की दूरी तय करके राष्ट्रीय राजमार्ग NH-४४ और NH-२१ द्वारा पहुँच जाओगे!

पातालपुरी साहिब की जय हो! जयघोष हो!!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...