पीयूष गोयल की सऊदी अरब की सार्थक यात्रा का समापन

Share News

@ नई दिल्ली

केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग उपभोक्ता मामले खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण और कपड़ा मंत्री पीयूष गोयल ने भारत-सऊदी अरब रणनीतिक साझेदारी परिषद की मंत्रिस्तरीय बैठक में भाग लेने के लिए 18 से 19 सितंबर 2022 तक सऊदी अरब का दौरा किया। गोयल सऊदी के ऊर्जा मंत्री और महामहिम प्रिंस अब्दुलअज़ीज़ बिन सलमान अल-सऊद ने भारत-सऊदी अरब रणनीतिक साझेदारी परिषद की अर्थव्यवस्था और निवेश समिति की मंत्रिस्तरीय बैठक की सह-अध्यक्षता की।

इस रणनीतिक साझेदारी परिषद की स्थापना अक्टूबर 2019 में भारत के प्रधानमंत्री की सऊदी अरब की यात्रा के दौरान की गई थी और इसके दो मुख्य स्तंभ हैं – राजनीतिक सुरक्षा सामाजिक और सांस्कृतिक समिति तथा अर्थव्यवस्था एवं निवेश पर समिति।

इस मंत्रिस्तरीय बैठक के उल्लेखनीय नतीजे इस प्रकार रहे हैं:

  1. महामहिम क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान द्वारा फरवरी 2019 में अपनी भारत यात्रा के दौरान भारत में 100 बिलियन अमेरिकी डॉलर के निवेश की घोषणा को साकार करने के प्रयासों को सुव्यवस्थित करना।
  2. कृषि व खाद्य सुरक्षा; ऊर्जा; प्रौद्योगिकी एवं आईटी; और उद्योग व इन्फ्रास्ट्रक्चर – इन 4 व्यापक क्षेत्रों के अंतर्गत तकनीकी टीमों द्वारा पहचाने गए सहयोग के 41 क्षेत्रों पर मुहर;
  3. प्राथमिकता वाली परियोजनाओं का समयबद्ध तरीके से क्रियान्वयन करने के लिए करार। इसमें शामिल सहयोग के प्राथमिकता वाले क्षेत्र हैं:
  • सऊदी अरब में यूपीआई और रुपे कार्ड के संचालन के माध्यम से डिजिटल फिनटेक क्षेत्र में सहयोग।
  • वेस्ट कोस्ट रिफाइनरी एलएनजी इन्फ्रास्ट्रक्चर में निवेश और भारत में सामरिक पेट्रोलियम भंडारण सुविधाओं के विकास सहित संयुक्त परियोजनाओं में निरंतर सहयोग की दोबारा पुष्टि।

यात्रा के दौरान मंत्री ने सऊदी अरब के वाणिज्य मंत्री डॉ. माजिद बिन अब्दुल्ला अल-कसाबी से मुलाकात की और द्विपक्षीय व्यापार वाणिज्य तथा निवेश संबंधों के सभी पहलुओं पर व्यापक चर्चा की। चर्चा में कुछ और प्रमुख बिंदु थे – व्यापार व वाणिज्य का विविधीकरण और विस्तार। व्यापार बाधाओं को दूर करना जिनमें स्वच्छता और फाइटोसैनिटरी उपायों तथा व्यापार उपायों से जुड़े लंबित मुद्दे शामिल हैं। सऊदी अरब में भारतीय फार्मा उत्पादों का ऑटोमैटिक पंजीकरण और मार्केटिंग प्राधिकरण। रुपया-रियाल व्यापार को संस्थागत करने की व्यवहार्यता। सऊदी अरब में यूपीआई और रुपे कार्ड का आगाज़।

मंत्री महोदय ने बैठक के बाद अपनी ट्वीट में कहा सऊदी अरब के वाणिज्य मंत्री डॉ. माजिद बिन अब्दुल्ला अल-कसाबी के साथ उपयोगी बैठक हुई। इसमें भारत और सऊदी अरब के बीच आर्थिक संबंधों को बढ़ावा देने के लिए ज्यादा निवेश आकर्षित करने और द्विपक्षीय व्यापार में विविधता लाने के तरीकों पर चर्चा की गई।मंत्री ने रॉयल कमीशन ऑफ ज़ुबैल और यानबू के अध्यक्ष खालिद अल-सलेम सऊदी एक्ज़िम बैंक के सीईओ साद अल-खल्ब और सऊदी अरब के उद्योग मंत्रालय के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से भी मुलाकात की।

इस दौरान दोनों देशों के एक्जिम बैंकों के संस्थागत गठजोड़ तीसरे देशों में संयुक्त परियोजनाओं मानकों की पारस्परिक मान्यता स्टार्टअप और इनोवेशन ब्रिज की स्थापना इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास में सहयोग को मजबूत करने जैसे विषयों पर चर्चा हुई। खासकर दवा ऑटोमोबाइल पेट्रोकेमिकल्स स्पेशलिटी केमिकल्स टेक्निकल टेक्सटाइल्स खनन और भारत से बढ़ते प्रोजेक्ट निर्यातों में निर्माण रेलवे औद्योगिक और विनिर्माण सहयोग के क्षेत्र।

गोयल ने खालिद अल-सलेम के साथ अपनी बैठक को लेकर ट्वीट किया रॉयल कमीशन ऑफ ज़ुबैल और यानबू के अध्यक्ष खालिद अल-सलेम के साथ एक सार्थक बैठक हुई। दोनों देशों के बीच आर्थिक सहयोग को और मजबूत करने के लिए पारस्परिक रूप से लाभकारी अवसरों की पहचान की गई।

गोयल ने सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्री प्रिंस अब्दुलअज़ीज़ बिन सलमान अल सऊद के साथ भी बातचीत की।इस बैठक के बारे में उन्होंने ट्वीट किया हमने चर्चा की कि जलवायु परिवर्तन की संवेदनशीलता के साथ ऊर्जा सुरक्षा कैसे आर्थिक विकास और समृद्धि प्रदान कर सकती है। हमारे दोनों देशों के बीच अक्षय ऊर्जा में मजबूत साझेदारी पर भी विचार-विमर्श किया गया। गोयल ने रियाद में भारतीय दूतावास के प्रयासों के तहत रियाद में द इंडिया वीक का भी उद्घाटन किया। खासकर बाजरा जैसे खाद्य उत्पादों और कपड़ा आदि को सेलिब्रेट करने के लिए।

मंत्री महोदय ने ट्वीट किया ब्रांड इंडिया सऊदी अरब में चमक रहा है!अपने दौरे पर मंत्री महोदय के साथ एक प्रतिनिधिमंडल भी था जिसमें कृषि वाणिज्य इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालयों और नीति आयोग के अतिरिक्त सचिवों और संयुक्त सचिवों के स्तर के अधिकारी शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...