PFI कार्यकर्ताओं ने केरल में विरोध प्रदर्शन किया

Share News

@ तिरूवनंतपुरम केरल

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया ने राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) की अगुवाई में कई एजेंसियों द्वारा उसके कार्यालयों नेताओं के घरों और अन्य परिसर में छापे मारने के विरोध में बृहस्पतिवार को केरल में प्रदर्शन किया।

देशभर में आतंकी गतिविधियों के समर्थन के आरोप में PFI के परिसरों पर यह छापेमारी की गयी है। सुबह जैसे ही छापों की खबर आयी तो PFI कार्यकर्ताओं ने उन स्थानों की ओर मार्च निकाला जहां छापे मारे गए और केंद्र तथा उसकी जांच एजेंसियों के खिलाफ नारे लगाए। बहरहाल ऐसे सभी स्थानों पर पहले ही केंद्रीय बलों की तैनाती की गयी थी।

PFI के एक सूत्र ने यहां बताया कि तिरुवनंतपुरम कोल्लम कोट्टयम एर्नाकुलम और त्रिशूर समेत लगभग सभी जिलों में प्रदर्शन किए गए। छापे मुख्यत: राज्य और जिला समितियों के कार्यालय तथा उसके पदाधिकारियों के आवास पर मारे गए। हालांकि शुरुआत में हमें लगा कि प्रवर्तन निदेशालय ने छापे मारे हैं लेकिन बाद में यह स्पष्ट हो गया कि यह एनआईए की कार्रवाई है।

केंद्रीय एजेंसियों ने केरल से PFI के राष्ट्रीय राज्य और जिला स्तर के नेताओं समेत 14 पदाधिकारियों को हिरासत में लिया है। उसने बताया कि PFI के प्रदेश अध्यक्ष सी पी मोहम्मद बशीर राष्ट्रीय अध्यक्ष ओ एम ए सलाम राष्ट्रीय सचिव नसरुद्दीन इलामराम तथा अन्य को हिरासत में लिया गया है। कोझीकोड में वरिष्ठ नेता अब्दुल सत्तार ने आरोप लगाया कि PFI के परिसरों पर देशव्यापी छापे भारतीय जनता पार्टी नीत केंद्र सरकार द्वारा समर्थन प्राप्त आतंकवाद का ताजा उदाहरण है।‘सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया’ के प्रदेश अध्यक्ष अशरफ मौलवी ने बताया कि त्रिशूर के उसके एक नेता के आवास पर भी छापा मारा।

उन्होंने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जो देश के संविधान में यकीन रखते हैं और उसके अनुरूप काम करते हैं वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ शासित भारत में अपने खिलाफ ऐसे फासीवादी कदम की उम्मीद कर सकते हैं। ऐसे कृत्यों से असल में केंद्र संविधान विरोधी गतिविधियों में संलिप्त हो रहा है। जनता को देश की रक्षा करने के लिए ऐसे कदमों के खिलाफ अपनी आवाज उठानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि केंद्रीय जांच एजेंसियां लोकतांत्रिक तरीके से काम कर रहे संगठनों के खिलाफ भ्रम फैलाने की कोशिश कर रही हैं और राष्ट्रीय नेतृत्व से विचार-विमर्श करने के बाद ऐसे कृत्यों के खिलाफ कानूनी कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने यह भी दावा किया कि छापों के दौरान जो दस्तावेज बरामद किए गए हैं वे संगठन द्वारा अपने प्रचार अभियान के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले जनसंपर्क संबंधी कागजात हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...