प्रदेश में गरीबों के कल्याण के लिये नहीं छोड़ेंगे कोई कोर-कसर

Share News

@ भोपाल मध्यप्रदेश

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में गरीबों के सम्मान और कल्याण के लिए कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी जायेगी। गरीबों के हित में सरकार लगातार कार्य कर रही है। इसी क्रम में आज श्योपुर जिले के जनजातीय विकासखण्ड कराहल में प्रधानमंत्री आवास योजना में “सहरिया स्पेशल प्रोजेक्ट” का शुभारंभ किया गया है। इस प्रोजेक्ट में सहरिया समाज के 19 हज़ार 166 हितग्राहियों को 260 करोड़ रूपये के आवास स्वीकृत हुए हैं।

मुख्यमंत्री चौहान कराहल में सहरिया विशेष प्रोजेक्ट के शुभारंभ और 150 करोड़ रूपये के विकास कार्यों के लोकार्पण एवं भूमि-पूजन कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। अध्यक्षता केन्द्रीय कृषि एवं किसान-कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने की। मुख्यमंत्री चौहान और केन्द्रीय कृषि मंत्री तोमर ने गिर गाय नस्ल सुधार परियोजना का शुभारंभ भी किया।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना में “सहरिया स्पेशल प्रोजेक्ट” अद्भुत योजना है। आज सहरिया समाज के गरीब परिवारों के लिये आनन्द, प्रसन्नता और खुशी का दिन है।उन्होंने कहा कि 19 हजार 166 आवास बन जाने से सहरिया परिवारों की ज़िंदगी बदल जायेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार गरीब, किसान और माताओं-बहनों की सरकार है, जब तक इन सभी का उत्थान नहीं हो जाता, तब तक मैं शांत नहीं बैठूंगा।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सरकार ने संकल्प लिया है कि हर गरीब को पक्का मकान दिया जाये। इसके लिये बजट में प्रावधान भी किया गया है। उन्होंने कहा कि इतनी बड़ी संख्या में बनने वाले आवासों के लिये सीमेंट एवं अन्य सामग्री की व्यवस्था एक साथ की जाये, जिससे हितग्राही को कम दरों पर सामग्री मिल सके और उन्हें भटकना भी न पड़े।

इस संबंध में उन्होंने जिला कलेक्टर को व्यवस्था करने के निर्देश भी दिये। मुख्यमंत्री ने कहा कि जो स्व-सहायता समूह ईंट निर्माण कर रहे हैं, उनसे ईंट खरीदी जाये, जिससे समूहों को भी लाभ मिले। इस कार्य में गड़बड़ी करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा।

मुख्यमंत्री चौहान ने आजीविका मिशन के स्व-सहायता समूह की महिलाओं को बधाई दी। उन्होंने कहा कि समूह की महिलाएँ साबुन, डिटर्जेन्ट, अमरूद का उत्पादन, जड़ी-बूटियाँ और मसालों का उत्पादन कर अच्छा लाभ कमा रही हैं।उन्होंने जरूरतमंद माता-बहनों को भी समूहों से जोड़कर उनके आर्थिक और सामाजिक उत्थान की बात कही।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि फुटपाथ पर दुकान चलाने वालों को पथ विक्रेता योजना में आर्थिक मदद की जा रही है। साथ ही ऐसे जनजातीय युवा, जो शारीरिक रूप से सुदृढ़ और फुर्तीले हैं, उनके लिये पुलिस कांस्‍टेबल भर्ती में विशेष अंक का प्रावधान करने का विचार किया जा रहा है। साथ ही हर जिले में रोजगार मेलों का आयोजन कर अधिक से अधिक युवाओं को रोजगार से जोड़ने की व्यवस्था की गई है।

केन्द्रीय मंत्री तोमर ने कहा कि एक कालखण्ड ऐसा भी था, जब व्यक्ति आवास को प्राप्त करने का सपना देखता था।अब ऐसी स्थिति नहीं है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संकल्प लिया है कि कोई भी गरीब बगैर छत के नहीं रहेगा। देश में अभी तक 32 करोड़ आवास निर्माण कर ग्रामीणों को उपलब्ध कराये गये हैं। मध्यप्रदेश में सबसे ज्यादा आवास बने हैं।

उन्होंने कहा कि श्योपुर जिले में ही सहरिया भील-भिलाला, कोरकू जनजाति परिवारों को 22 हजार से अधिक आवास स्वीकृत कर 21 हजार आवास बनाकर गृह प्रवेश करा दिया गया है। इसके बाद भी जनजातीय परिवारों की एक बड़ी संख्या आवासों से वंचित थी, जिन्हें विशेष प्रोजेक्ट के तहत आवास स्वीकृत किये गये हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...