राम जोहड़ी मन्दिर, द्वारका नई दिल्ली भाग: १२४, पँ० ज्ञानेश्वर हँस “देव” की कलम से

Share News

भारत के धार्मिक स्थल: राम जोहड़ी मन्दिर,द्वारका नई दिल्ली भाग: १२४

आपने पिछले भाग में पढ़ा : भारत के प्रसिद्ध धार्मिकस्थल: श्रीश्यामा बल्लव हरिहर सूर्य मन्दिर, रमेश नगर, नई दिल्ली! यदि आपसे यह लेख छूट गया हो और आपमें पढ़ने की जिज्ञासा हो तो आप प्रजा टुडे की वेबसाइट की धर्म-सहित्य पृष्ठ पर जा कर उक्त लेख पढ़ सकते हैं!

आज हम भारत के धार्मिक स्थल: राम जोहड़ी मन्दिर, द्वारका नई दिल्ली भाग: १२४

यह मन्दिर बहुत प्राचीन है! सैंकड़ों वर्ष पूर्व यहाँ बना यह प्रामाणिक प्रतिष्ठित द्वारका स्थित राम जोहड़ी मन्दिर आने वाले श्रद्धालुओं को बता दें है तो यह है शिवालय और नाम है राम जोहड़ी मन्दिर! पेट्रोल पम्प से सटा हुआ द्वार अधिकतर त्यौहारों पर ही खुलता है!

देवाधिदेव महादेव की प्रतिमा प्रमुख द्वार पर बनी हुई है! २१ एकड़ में बना हुआ यह राम जोहड़ी मन्दिर में आते ही पेट्रोल पम्प से बाएँ ९ दुर्गा का अद्वितीय गोलाकार गुम्बद वाला मन्दिर है, जिसमें क्रमशः शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चन्द्रघण्टा, कुष्मांडा, स्कन्धमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी, सिद्धिदात्री माँ की सँगमरमर से बनी प्राण प्रतिशत प्रतिमाएँ सुसज्जित हैं! साथ ही भगवान विष्णु तथा लक्ष्मी की भव्य प्रतिमा भी सँगमरमर से बनी है!

इस गोलाकार मन्दिर से दाएँ ओर प्राचीन जोहड़ है! जिसमें कई सर्प देखे गए हैं! बिहार और उत्तर प्रदेश के रहवासी छट पूजा के समय इसी जोहड़ में पूजा अर्चना करते हैं!

आगे चलकर दाएँ हाथ पर नर्सरी है और बाएँ हाथ पर मुख्य मन्दिर है! मन्दिर का द्वार खुलते ही शिवलिँग है! अन्दर घुसते ही बाईं तरफ़ नगाड़ा रखा होता है, मुख्य घण्टा बजाकर प्रवेश करते ही सामने शिव परिवार है! श्री गणेश, कार्तिकदेव, नन्दी, सर्पराज, गौरी व शँकर शिव अरघे के ऊपर कुम्भ समक्ष शिवजी की तस्वीर बाएँ शिव पार्वती एवँ सँकतमोचन हनुमानजी की प्रतिमा है! जलाभिषेक करके पुष्प धूप दीपोपरन्त परिक्रमा करके हम इस शिवालय से बाहर आये!

बाहर आने पर बाएं से श्री राधा कृष्ण की मनमोहनेवाली प्रतिमा, साथ ही श्री राम दरबार की आदमकद प्रतिमाएँ, स्वर्ण लंका के सृजनकार भगवान विश्वकर्मा जी, सन्तोषी माता, श्याम बाबा की मार्बल की प्राणप्रतिष्ठित मूर्ति के साथ हनुमान जी की आदमकद सँजीवनि लिए हनुमान जी जहाँ हमने मारुति के चरणों में बैठ कर कई बार सम्पूर्ण रामायण का पाठ पढ़ा! साथ ही श्रद्धा सबूरी रखने व सबका मालिक एक वाले साईँ बाबा की प्रतिमा जो हमारे समक्ष हमारी भाभी श्रीमती मेहरा एवँ बड़े भाई तुल्य गणेश दास मेहरा ने स्थापित करवाई थी! उनके समक्ष ही हवन कुण्ड है!

द्वार से सीधा जाने पर सन्तो महन्तों के चित्रों के नीचे आसन पर कई बार बैठकर भजन कीर्तन व पाठ जाप किया! सँत महात्मा जी का चित्र पैंटिंग के रूप में लगाया हुआ है!

दाहिनी ओर बड़ी सी पाकशाला है जहाँ शिवरात्रि को भण्डारा लगाया जाता है! शिवरात्रि पर्व पर यहाँ दिल्ली की इनामी कुश्ती का भी आयोजन भी किया जाता है!

हवाई मार्ग से कैसे पहुँचें रामजोहड़ी मन्दिर:

इन्दिरा गाँधी अन्तरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से मात्र ८ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है द्वारका का राम जोहड़ी मन्दिर!

रेल मार्ग से कैसे पहुँचें रामजोहड़ी मन्दिर:

निकटतम मेट्रो स्टेशन पालम है! राम जोहड़ी मन्दिर से मेट्रो की दूरी लगभग डेढ़ किलोमीटर है! आप दस मिन्ट्स में रिक्शा से पहुँच जाओगे द्वारका के, राम जोहड़ी मन्दिर!

सड़क मार्ग से कैसे पहुँचें रामजोहड़ी मन्दिर:

बस कार अथवा मोटरसाईकिल से आसानी से पहुँच सकते हैं राम जोहड़ी मन्दिर! द्वारका सेक्टर १ के समीप! अग्रसेन हॉस्पिटल से पैदल का रास्ता है! आसानी से आप दो मिन्ट्स में पहुँच सकते हो! द्वारका सेक्टर १ के पेट्रोल पम्प से सटा हुआ है राम जोहड़ी मन्दिर!

ॐ राम शिव की जय हो! जयघोष हो!!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...