श्री सत्यनारायण मन्दिर नँगनल्लूर, चैन्नई भाग:१८३,पँ० ज्ञानेश्वर हँस “देव” की क़लम से

Share News

भारत के धार्मिक स्थल: श्री सत्यनारायण मन्दिर नँगनल्लूर, चैन्नई भाग:१८३

आपने पिछले भाग में पढ़ा भारत के धार्मिक स्थल : सत्यनारायण स्वामी देवस्थानम, बैंगलोर, कर्नाटक, ! यदि आपसे उक्त लेख छूट गया अथवा रह गया हो और आपमें पढ़ने की जिज्ञासा हो तो आप प्रजा टूडे की वेब साईट www. prajatoday.com पर जाकर, धर्म- साहित्य पृष्ठ पर जाकर सकते हैं!

आज हम आपके लिए लाए हैं : भारत के धार्मिक स्थल: श्री सत्यनारायण मन्दिर नँगनल्लूर, चैन्नई भाग:१८३

सत्य नारायण मन्दिर तमिलनाडु में चेन्नई शहर के एक प्रसिद्ध इलाके नँगनल्लूर में स्थित भगवान श्री विष्णु को समर्पित है! यह चेन्नई के कुछ सत्य नारायण मन्दिरों में से एक है! यह मन्दिर राजेश्वरी मन्दिर के बगल में स्थित है! माना जाता है कि यह मन्दिर १००० वर्ष प्राचीनतम मन्दिर है! ये दोनों मन्दिर एक दूसरे से जुड़े हुए हैं! कई मन्दिरों की उपस्थिति के कारण नँगनल्लूर को मिनी काँचीपुरम भी कहा जाता है!

पौराणिक महत्व :

मन्दिर पश्चिम की ओर है! गरुड़, बालीपीडम और ध्वज कर्मचारी गर्भगृह की ओर मुख करके स्थित हैं! पीठासीन देवता को श्री सत्य नारायण कहा जाता है और उनका मुख पश्चिम की ओर होता है! उन्हेँ गर्भगृह में रखा गया है! श्री सत्यनारायण पेरुमल को आठ अक्षरों वाले आठ यँत्रों पर स्थापित किया गया है! आमतौर पर पेरुमल के किनारे देखी जाने वाली श्री लक्ष्मी यहाँ पेरुमल के सीने में मौजूद हैं जो पश्चिम की ओर मुँह करके खड़ी मुद्रा में हैं! पेरुमल मन्दिरों में आमतौर पर नहीँ देखे जाने वाले नवग्रह यहाँ एक सीधी रेखा में देखे जाते हैं जो अद्वितीय है!

मान्यताएं :

जो लोग घर पर ही श्री सत्य नारायण जी की पूजा करने में असमर्थ हैं, वे श्री सत्य नारायण जी की पूजा करने का लाभ पाने के लिए यहाँ पूजा में भाग ले सकते है! ऐसा माना जाता है कि भगवान श्री सत्य नारायण पेरुमल की पूजा करने से सर्व दोशों से मुक्ति मिल जाती है!

मन्दिर का पता :

नँगनल्लूर श्री सत्य नारायण मन्दिर, १८ वीं स्ट्रीट, थिलाई गङ्गा नगर, नँगनल्लूर, चेन्नई:४६००६१ भारत! आज हर आदमी व्यस्त है और इस भाग दौड़ भरी जिंदगी में पूजा-पाठ करने का ज्यादा समय नहीं निकाल पाता है! ऐसे समय में इस छोटी-सी स्तुति से भगवान विष्णु की उपासना करने से आप उनकी कृपा पा सकते हैं!

अगर आप पूरे भाव से इस मन्त्र स्तुति का जाप करेंगे तो निश्चित ही श्री हरि नारायण सत्यनारायण आप पर प्रसन्न होकर हर क्षेत्र में विजयी होने का आशीर्वाद देंगे! आइए जानें पवित्र विष्णु स्तुति-

विष्णु स्तुति :-

शान्ताकारं भुजंगशयनं पद्मनाभं सुरेशं
विश्वाधारं गगन सदृशं मेघवर्ण शुभांगम्
लक्ष्मीकांत कमलनयनं योगिभिर्ध्यानगम्यं
वन्दे विष्णु भवभयहरं सर्व लौकेक नाथम्

यं ब्रह्मा वरुणैन्द्रु रुद्रमरुत: स्तुन्वानि दिव्यै स्तवैवेदे:
सांग पदक्रमोपनिषदै गार्यन्ति यं सामगा:
ध्यानावस्थित तद्गतेन मनसा पश्यति यं योगिनो
यस्यातं न विदु: सुरासुरगणा दैवाय तस्मै नम:

सुख, समृद्धि और शाँति चाहते हैं तो प्रतिदिन विष्णु जी की आरती करें!
विष्णुजी की प्रसिद्ध आरती :
ॐ जय जगदीश हरे

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे ।
भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट,क्षण में दूर करे ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

जो ध्यावे फल पावे, दुःख बिनसे मन का,
स्वामी दुःख बिनसे मन का । सुख सम्पति घर आवे,
सुख सम्पति घर आवे,कष्ट मिटे तन का ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

मात पिता तुम मेरे, शरण गहूं किसकी,
स्वामी शरण गहूं मैं किसकी ।तुम बिन और न दूजा,
तुम बिन और न दूजा, आस करूं मैं जिसकी ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम पूरण परमात्मा, तुम अन्तर्यामी,
स्वामी तुम अन्तर्यामी । पारब्रह्म परमेश्वर,
पारब्रह्म परमेश्वर, तुम सब के स्वामी ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम करुणा के सागर, तुम पालनकर्ता,
स्वामी तुम पालनकर्ता । मैं मूरख फलकामी,
मैं सेवक तुम स्वामी, कृपा करो भर्ता॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम हो एक अगोचर, सबके प्राणपति,
स्वामी सबके प्राणपति । किस विधि मिलूं दयामय,
किस विधि मिलूं दयामय, तुमको मैं कुमति ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

दीन-बन्धु दुःख-हर्ता, ठाकुर तुम मेरे,
स्वामी रक्षक तुम मेरे । अपने हाथ उठाओ,
अपने शरण लगाओ, द्वार पड़ा तेरे ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

विषय-विकार मिटाओ, पाप हरो देवा,
स्वमी पाप(कष्ट) हरो देवा । श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ,
श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ, सन्तन की सेवा ॥

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे ।
भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे ॥

कैसे पहुंचा जाये :

पश्चिम माम्बलम, पुराने माम्बलम के रूप में अच्छी तरह से पहचाना जाता है; मुख्य रूप से आवासीय आसपास और चेन्नई, भारत में एक पुराना इलाका। यह शहर के केंद्र में टी नगर के पश्चिम में स्थित है!

हवाई मार्ग से कैसे पहुँचें :-

हवाईजहाज से सभी प्रमुख शहरों से संपर्क प्रदान करने के लिए चेन्नई के लिए दैनिक उड़ानें हैं! चेन्नई में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दोनों हवाई अड्डे हैं! चेन्नई से टी. नगर श्री सत्यनारायण पेरुमल मन्दिर जल्दी से पहुँचा जा सकता है!

रेल मार्ग से कैसे पहुँचें :-

ट्रेन से इस मन्दिर में जाने के लिए ट्रेनों की त्वरित पहुँच भी है! निकटतम रेलवे स्टेशन माम्बलम में है! पश्चिम माम्बलम में लोकल ट्रेन की सुविधा भी उपलब्ध है!

सड़क मार्ग से कैसे पहुँचें :-

सड़क द्वारा पश्चिम माम्बलम इस मन्दिर तक पहुँचने के लिए बसों, टैक्सियों दोनों के माध्यम से शहर के सभी हिस्सों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है! इस मन्दिर तक पहुँचने के लिए नजदीकी बस टर्मिनस टी० नगर में स्थित है! यहाँ घूमने के लिए कैब भी किराए पर ली जा सकती है! आप दिल्ली से अपनी कार अथवा बस से २२१२.३ किलोमीटर की दूरी तय करके राष्ट्रीय राजमार्ग NH-४४ से ३८ घण्टे में पहुँच सकते हो श्री सत्यनारायण पेरुमल मन्दिर!

श्री सत्यनारायण पेरुमल की जय हो! जयघोष हो!!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...