श्रीश्यामा बल्लव हरिहर सूर्य मन्दिर रमेश नगर, नई दिल्ली भाग: १२३, पँ० ज्ञानेश्वर हँस “देव” की कलम से

Share News

भारत के धार्मिक स्थल: श्रीश्यामा बल्लव हरिहर सूर्य मन्दिर रमेश नगर, नई दिल्ली भाग: १२३

आपने पिछले भाग में पढ़ा : भारत के प्रसिद्ध धार्मिकस्थल: श्रीसिद्ध शनीधाम मन्दिर,असोला, महरौली, नई दिल्ली! यदि आपसे यह लेख छूट गया हो और आपमें पढ़ने की जिज्ञासा हो तो आप प्रजा टुडे की वेबसाइट की धर्म-सहित्य पृष्ठ पर जा कर उक्त लेख पढ़ सकते हैं!

आज हम भारत के धार्मिक स्थल: श्रीश्यामा बल्लव हरिहर सूर्य मन्दिर, रमेश नगर नई दिल्ली भाग: १२३

ब्राह्मण दिवंगत स्वतंत्रता सेनानी योगी रामनाथ शास्त्री जी ने पहली बार १९१४ में रावलपिंडी, जो अब पाकिस्तान में है, शास्त्री जी ने मोतीनाथ सँस्कृत कॉलेज की शुरुआत की! उनका उद्देश्य सँस्कृत को एक अन्तर्राष्ट्रीय भाषा के रूप में स्थापित करना था! १९४७ के बटवारे के दौरान उन्होंने अपना ठिकाना बदल लिया दिल्ली में! वह बसई दारापुर के ग्रामीणों से मिले और उन्हें अपने सँस्कृत कॉलेज के बारे में बताया जो उस समय रावलपिंडी में चल रहा था! ग्रामीणों ने जब उनकी बात सुनी तो उन्होंने १५ बीघा भूमि दान कर दी! १५०९ बन्दरवाली खुई, रमेश नगर, नई दिल्ली में! इस भूमि पर उस समय “श्री श्यामा बल्लव हरिहर सूर्य मन्दिर” नामक एक सूर्य मन्दिर भी स्थित था और ग्रामीणों ने उसे मन्दिर की देखभाल करने के लिए कहा था!

योगी रामनाथ शास्त्रीजी ने कॉलेज की स्थापना के लिए स्थानीय लोगों और उनके अनुयायियों की मदद ली और सूर्य मंदिर में भी गहरी दिलचस्पी ली! उनकी मेहनत का फल मिला और दान की गई ज़मीन पर कॉलेज की इमारत बन गई! इसी बीच उन्होंने श्री श्यामा बल्लव हरिहर सूर्य मन्दिर का निर्माण भी पूर्ण किया!

नई दिल्ली सूर्य मन्दिर कोणार्क, उड़ीसा के बाद भारत का दूसरा सूर्य मंदिर है! परिसर में एक शहीदी स्मारक “शहीद स्तूप” स्थित है! स्वतंत्रता संग्राम लड़ने वाले उन स्वतंत्रता सेनानियों ने भारत के विभिन्न हिस्सों से धरती लाकर उन्हें मिट्टी के कटोरे में डाल दिया था, जिसे आज तक बरकरार रखा गया है! यह स्वतंत्रता सेनानियों के लिए एक पवित्र स्थान है! मन्दिर के बारे में कहा जाता है कि जो लोग मंदिर में षष्ठी तिथि (हिंदी कैलेंडर के छह दिन) पर यज्ञ करते हैं, उनकी सभी मनोकामनाएं भगवान सूर्य की कृपा से पूरी होती हैं और जो लोग मन्दिर में दीया जलाते हैं, उनके घर हैं रोशनी से भरा! आज तक हजारों लोगों को भगवान सूर्य की कृपा प्राप्त हुई है!

योगी रामनाथ शास्त्री न केवल एक देशभक्त थे बल्कि एक धार्मिक व्यक्ति भी थे! वे दूरदर्शी थे! उन्होंने न केवल कॉलेज और मन्दिर का विकास किया बल्कि जरूरतमंद लोगों को छोटे-छोटे खोखे भी उपलब्ध कराए ताकि वे आजीविका कमा सकें और सम्मानपूर्वक जीवन यापन कर सकें! उन्होंने एक औषधालय, एक महिला शिल्पकला केंद्र और एक गौशाला (गाय-गृह) खोली! सिलाई सेंटर के माध्यम से वह चाहते हैं कि गरीब महिलाएं और लड़कियां सीखें और कमाएं, जबकि डिस्पेंसरी उनके स्वास्थ्य की देखभाल करेगी! उन्होंने छात्रों के लाभ के लिए गौशाला की स्थापना की ताकि उन्हें ताजा दूध मिल सके! योगी रामनाथ शास्त्री ने स्थानीय लोगों की मदद ली और पूरी व्यवस्था को अंजाम दिया! वह यह अच्छी तरह जानते थे कि इस शो को प्रभावी ढंग से चलाने के लिए उन्हें समर्पित व्यक्तियों की एक टीम की जरूरत है, इसलिए १९६९ में उन्होंने श्री शिवनाथ योगाश्रम के नाम से एक ट्रस्ट को सोसाइटी एक्ट के तहत पंजीकृत किया! उक्त भूमि को ग्राम के चौधरियों द्वारा सम्मलत पट्टी रियाल, बसई दारापुर द्वारा दान में दिया गया था! उनके प्रयास फल देने लगे और छठी से मास्टर डिग्री तक कक्षाएं शुरू हुईं! यह कॉलेज दान से चलाया जाता था लेकिन १ मई १९7२ को दिल्ली के तत्कालीन राज्यपाल आदित्य नाथ झा ने दिल्ली प्रशासन द्वारा कॉलेज को वित्तीय सहायता की मंजूरी दी! आजादी के बाद पहली बार राज्यपाल ने ऐसा किया था! ८ फरवरी १९८५ को दूरदर्शी योगी रामनाथ शास्त्री का निधन हो गया!

योगी रामनाथ शास्त्री के निधन के बाद पूर्व पार्षद मंगत राम तंवर ने श्री शिवनाथ योगाश्रम की कमान संभाली! उन्होंने जीवन भर कॉलेज और सूर्य मन्दिर की बेहतरी के लिए अथक परिश्रम किया! २ अप्रैल २९०७ को उनका निधन हो गया!

दिल्ली के पूर्व सीएम मदन लाल खुराना और दिवंगत महंत अवैद्यनाथ सांसद ने शास्त्री को उनकी मृत्यु तक उनके उपन्यास के लिए समर्थन दिया! महंत ट्रस्टी थे! अब, महंत आदित्यनाथ ट्रस्टी हैं!

आज मोतीनाथ सँस्कृत महाविद्यालय सँस्कृत शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट सेवा कर रहा है! कॉलेज ने १०० साल पूरे कर लिए हैं! इस कॉलेज को प्रिंसिपल के रूप में कुछ बेहतरीन सँस्कृत विद्वान मिले! स्वर्गीय वेदानन्द झा को सँस्कृत के क्षेत्र में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए राष्ट्रपति पदक से सम्मानित किया गया! वहीं दिल्ली की मुख्यमंत्री श्रीमती शीला दीक्षित द्वारा पूर्व प्राचार्य श्री मित्रनाथ योगी को संस्कृत सेवा सम्मान से सम्मानित किया गया!
वे छात्र जो संस्कृत भाषा सीखने के इच्छुक थे, वे भारत के विभिन्न हिस्सों से आए थे! वे आए, उन्होंने भाषा सीखी और डिग्री हासिल की और आज उनमें से हजारों की स्थिति अच्छी है! इस कॉलेज के छात्र न केवल सँस्कृत में उत्कृष्ट हैं हाल ही में भारत स्तर पर खेल में एक छात्र का चयन हुआ है! श्री शिवनाथ योगाश्रम (रजि.) ट्रस्ट द्वारा आज तक विद्यार्थियों को स्कूली शिक्षा एवं भोजन निःशुल्क उपलब्ध कराया जाता है!

मेरे छोटे भाई सम मित्र करुणेश कुमार शुक्ल की मधुर आवज़ में रिकार्ड् करवायी! आरती का महत्त्व : पूजा पाठ और भक्ति भाव में आरती का विशिष्ठ महत्त्व है! स्कन्द पुराण में आरती का महत्त्व वर्णित है! आरती में अग्नि का स्थान महत्त्व रखता है! अग्नि समस्त नकारात्मक शक्तियों का अन्त करती है! अराध्य के समक्ष विशेष वस्तुओं को रखा जाता है! अग्नि का दीपक घी या तेल का हो सकता है जो पूजा के विधान पर निर्भर करता है! वातावरण को शुद्ध करने के लिए सुगन्धित प्रदार्थों का भी उपयोग किया जाता है! कर्पूर का प्रयोग भी जातक के दोषों को समाप्त करते हैं!

श्री सूर्यनारायण जी की आरती :

जय जय जय रविदेव
जय जय जय रविदेव
रजनी पति मदहारी
शत दल जीवन दाता
षट पत मन मुदकारी
हे दिन मणि ! ताता
जग के हे रविदेव
जयजयजय रविदेव
नभ मण्डल के वासी
ज्योतिप्रकाशक देवा
निज जन हित सुख
रासीतेरी हमसबसेवा
करते हैं रविदेव
जयजयजय रविदेव
कनकबदनमनमोहित
रुचिर प्रभा प्यारी
निज मंडल से मंडित
अजरअमर छविधारी
हे सुर वर रविदेव
जयजयजय रविदेव
सूर्यार्ति पठित्वा

हवाई मार्ग से कैसे पहुँचें सूर्य-मन्दिर::

इन्दिरा गाँधी अन्तरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से मात्र २८ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है श्री सूर्य मन्दिर!

रेल मार्ग से कैसे पहुँचें सूर्य-मन्दिर:

निकटतम मेट्रो स्टेशन रमेश नगर है! सूर्य मन्दिर से मेट्रो की दूरी आधा किलोमीटर है! आप दो मिन्ट्स में पहुँच जाओगे!

सड़क मार्ग से कैसे पहुँचसूर्य-मन्दिर:

बस कार अथवा मोटरसाईकिल से आसानी से पहुँच सकते हैं सूर्य मन्दिर! रमेश नगर मण्डी हाऊस से मात्र १८ किलोमीटर है! आसानी से आप पहुँच सकते हो!

सूर्य नारायण की जय हो! जयघोष हो!!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...