सन्तोषी माता मन्दिर हरि नगर, नई दिल्ली भाग: १२८, पँ० ज्ञानेश्वर हँस “देव” की कलम से

Share News

भारत के धार्मिक स्थल: सन्तोषी माता मन्दिर हरि नगर, नई दिल्ली भाग: १२८

आपने पिछले भाग में पढ़ा : भारत के प्रसिद्ध धार्मिकस्थल: साईँ मन्दिर, नजफगढ़, नई दिल्ली! यदि आपसे यह लेख छूट गया हो और आपमें पढ़ने की जिज्ञासा हो तो आप प्रजा टुडे की वेबसाइट की धर्म-सहित्य पृष्ठ पर जा कर उक्त लेख पढ़ सकते हैं!

आज हम भारत के धार्मिक स्थल: सन्तोषी माता मन्दिर हरि नगर, नई दिल्ली भाग: १२८

सन्तोषी माता मन्दिर हरि नगर, जेल रोड़, नई दिल्ली का पावन पुनीत पवित्र मन्दिर है! इस मन्दिर की स्थापना ३ जुलाई १९८१ को सँत शिरोमणि सतगुरु श्री शमशेर बहादुर सक्सेना जी महाराज और उनकी धर्मपत्नी गुरुमाँ श्रीमती कान्ता सक्सेना जी द्वारा हुई थी!

हरि नगर का यह मन्दिर जोधपुर की सन्तोषी माता मन्दिर की प्रेरणा से स्थापित किया गया है! जो राजस्थान के पहाड़ों से घिरी अति पुरानी लाल सागर नामक प्रसिद्ध झील के समीप ही स्थित है! प्रत्येक वर्ष नौ फरवरी को अष्टधातु की देवी सन्तोषी माता मूर्ति स्थापना दिवस मनाया जाता है! १००वाँ चैत्र नवरात्रि २०२2 मेला: २ अप्रैल से ९ अप्रैल तक मनाया जाएगा!

मेरी पुत्री सँस्कृति, मेरी पुत्री सम छोटी भाभी अजय भारद्वाज बॉबी की पत्नी श्रीमती भावना भारद्वाज, उनकी पुत्री जो आज केनेडा में रह रही है, मेरी पत्नी जया सँग माँ सन्तोषी के दर्शन करने गए! मन्दिर के गर्भग्रह में तीन देवियाँ क्रमश: – माँ वैष्णो, माँ सन्तोषी तथा माँ सरस्वती विद्यमान हैं! इन तीनों देवियों की प्राण प्रतिष्ठा कर के इनकी सेवा में निरँतर तत्पर श्री हनुमान जी गर्भगृह के बाँये द्वार पर उपस्थित हैं!

मन्दिर में तीन देवियों का एक साथ गर्भगृह मे होना, मुंबई तथा पुणे की महालक्ष्मी मन्दिरों से समान ही है! मन्दिर के बाहर से ही हमें पूजा सामग्री मिल गई, हमने एक प्रसाद मेरे परिवार के लिए सँस्कृति को और दूसरा अजय-भावना-पुत्री याशिका ने श्रध्दा पूर्वक सामग्री ली और माँ के दर्शनों के लिए सर ढक कर मन्दिर में प्रवेश किया!

वैष्णो देवी माता की तीन सर्वोच्च पिण्डीयाँ जो जम्मू के माँ वैष्णों देवी दरबार में शोभायमान हैं, माँ महाकाली, माँ महालक्ष्मी एवं माँ महासरस्वती का एक साक्षात अवतार वैष्णोंदेवी के रूप में माना जाता है! वैसे ही वैष्णोंदेवी माता की साकार प्राण प्रतिष्ठित प्रतिमाएँ साकार रूप में अपने भक्तजनों की मनोकामनाएं पूर्ण करने हेतु साथ ही विश्व प्रसिद्ध माँ सन्तोषी की अष्टधातु की मूर्ति सबसे बड़ी और विशाल मूर्ति प्राणप्रतिष्ठित हैं! भक्तजन माता के इस विशाल रूप के दर्शन शुक्रवार और मन्दिर के अन्य सभी त्यौहारों पर प्राप्त कर अपना जीवन धन्य कर सकते हैं!

मन्दिर में सभी भक्तों के लिए प्रत्येक मङ्गलवार, शुक्रवार और रविवार को भण्डारे का आयोजन किया जाता है! नवरात्रि के समय मन्दिर २४ घण्टे भक्तों के दर्शन के लिए खुला रहता है! सन्तोषी माता का उद्यापन करने के लिए अत्यंत शुद्धता एवं स्वच्छता की आवश्यकता होती है! अतः इस शुद्धता एवं स्वच्छता को बनाए रखने हेतु, सन्तोषी माता मन्दिर में माता के व्रत उद्यापन का सुविधा प्रारंभ की जा चुकी है! जो भगतजन माँ सन्तोषी के व्रत का उद्यापन करना चाहते हैं वह मन्दिर से ही निर्मित सामग्री प्राप्त कर सकते हैं! इस मन्दिर में आने से शाँति, शक्ति एवँ सम्पन्नता का नैरोग्य का शुभाशीष मिलता है!

हरी नगर : जेल रोड पर हरि नगर बस डिपो के पास स्थित संतोषी माता मंदिर वेस्ट दिल्ली के सबसे प्रसिद माता मंदिरों में से एक है। मंदिर में दिल्ली एन०सी०आर० से बड़ी सँख्या में लोग नवरात्र के दौरान दर्शनार्थआते है! कोविड के चलते, मौसम के विपरीत होने के बावजूद यहाँ भक्तों के उत्साह में कोई कमी है! श्रद्धालु भक्तजनों की सँख्या में आए दिन भीड़ बढ़ती जाती है!

तकरीबन १०० वर्ष पुराना है यह सन्तोषी माता मन्दिर! इसके संस्थापक भक्त शिरोमणि शमशेर बहादुर सक्सेना हैं! भक्तों के बीच इसकी मान्यता जैसे जैसे बढ़ती गई, मन्दिर का स्वरूप भी वैसे ही बदलता गया! नवरात्रि के दौरान भक्तों की भीड़ चरम सीमा पर होती है! मंदिर की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यहाँ कोई पुजारी नहीं है! हर मङ्गलवार को माँ वैष्णो देवी और हर रविवार को सन्तोषी माता की चौकी होती है! नवरात्र में अनवर्त रात २ बजे तक दुर्गा सप्तसती का पाठ निरन्तर होता रहता है! श्रद्धालुओं की मदद के लिए यहाँ सैंकड़ों सेवादार हैं! दोपहर ३ बजे से रात १० बजे तक भण्डारा चलता रहता है!

मान्यतानुसार सन्तोषी माता सहज रूप में प्रकट होकर भक्तों को दर्शन देती हैं! कार्तिक और चैत्र मास मेले में १५ दिन तक चलने वाले समारोह के अलावा हर वर्ष ४ समारोह भी यह आयोजित होते हैं! मन्दिर में माता की अष्ट धातु की विशाल मूर्ति है। चौबीस घंटे अखंड ज्योति जलती है। इसके अलावा मान्यता यह भी है कि इस मंदिर में भक्तों की हर मनोकामना पूरी होती है। श्रद्धालु मंदिर में खड़े पीपल के पेड़ में अपनी मुरादें पूरी होने की आस में चुनरी बांधते हैं। मुराद पूरी होने पर चुनरी खोलने भी आते हैं!

सन्तोषी माता जी की आरती :

जय सन्तोषी माता,
मैया जय सन्तोषी माता ।
अपने सेवक जन की,
सुख सम्पति दाता ॥

जय सन्तोषी माता,
मैया जय सन्तोषी माता ॥

सुन्दर चीर सुनहरी,
मां धारण कीन्हो ।
हीरा पन्ना दमके,
तन श्रृंगार लीन्हो ॥

जय सन्तोषी माता,
मैया जय सन्तोषी माता ॥

गेरू लाल छटा छबि,
बदन कमल सोहे ।
मंद हंसत करुणामयी,
त्रिभुवन जन मोहे ॥

जय सन्तोषी माता,
मैया जय सन्तोषी माता ॥

स्वर्ण सिंहासन बैठी,
चंवर दुरे प्यारे ।
धूप, दीप, मधु, मेवा,
भोज धरे न्यारे ॥

जय सन्तोषी माता,
मैया जय सन्तोषी माता ॥

गुड़ अरु चना परम प्रिय,
तामें संतोष कियो ।
संतोषी कहलाई,
भक्तन वैभव दियो ॥

जय सन्तोषी माता,
मैया जय सन्तोषी माता ॥

शुक्रवार प्रिय मानत,
आज दिवस सोही ।
भक्त मंडली छाई,
कथा सुनत मोही ॥

जय सन्तोषी माता,
मैया जय सन्तोषी माता ॥

मंदिर जग मग ज्योति,
मंगल ध्वनि छाई ।
विनय करें हम सेवक,
चरनन सिर नाई ॥

जय सन्तोषी माता,
मैया जय सन्तोषी माता ॥

भक्ति भावमय पूजा,
अंगीकृत कीजै ।
जो मन बसे हमारे,
इच्छित फल दीजै ॥

जय सन्तोषी माता,
मैया जय सन्तोषी माता ॥

दुखी दारिद्री रोगी,
संकट मुक्त किए ।
बहु धन धान्य भरे घर,
सुख सौभाग्य दिए ॥

जय सन्तोषी माता,
मैया जय सन्तोषी माता ॥

ध्यान धरे जो तेरा,
वांछित फल पायो ।
पूजा कथा श्रवण कर,
घर आनन्द आयो ॥

जय सन्तोषी माता,
मैया जय सन्तोषी माता ॥

चरण गहे की लज्जा,
रखियो जगदम्बे ।
संकट तू ही निवारे,
दयामयी अम्बे ॥

जय सन्तोषी माता,
मैया जय सन्तोषी माता ॥

सन्तोषी माता की आरती,
जो कोई जन गावे ।
रिद्धि सिद्धि सुख सम्पति,
जी भर के पावे ॥

जय सन्तोषी माता,
मैया जय सन्तोषी माता ।
अपने सेवक जन की,
सुख सम्पति दाता ॥

सन्तोषी माता की आरती :

हवाई मार्ग से कैसे पहुँचें सन्तोषी माता मन्दिर:

पालम के इन्दिरगाँधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के टर्मिनल १ से आप कैब से ३० से ३५ मिन्ट्स में पहुँच सकते हो!

रेल मार्ग से कैसे पहुँचें सन्तोषी माता मन्दिर:

मेट्रो रेल से आप तिलकनगर मेट्रो स्टेशन उतर कर मात्र ₹ १०/= में शेयर ई-रिक्शा से पहुँच सकते हो जयजय सन्तोषी माता मन्दिर हरि नगर, नई दिल्ली!

सड़क मार्ग से कैसे पहुँचें सन्तोषी माता मन्दिर:

भारत के प्रतिष्ठित तिहाड़ जेल मार्ग पर हरि नगर में बस डिपो चौक से निकट ही है सन्तोषी माता मन्दिर हरि नगर, नई दिल्ली! कार बाइक अथवा बस से आसानी से आप पहुँच सकते हो!

सन्तोषी माता की जय हो! जयघोष हो!!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...