थॉमस कप फाइनल में इतिहास रचने उतरेगा भारत

Share News

@ नई दिल्ली

आत्मविश्वास से भरा भारत रविवार को यहां थॉमस कप बैडमिंटन टूर्नामेंट के फाइनल में 14 बार के चैंपियन इंडोनेशिया के खिलाफ एक बार फिर इतिहास रचने के इरादे से उतरेगा।गत चैंपियन इंडोनेशिया का इस टूर्नामेंट में रिकॉर्ड शानदार रहा है और टीम मौजूदा टूर्नामेंट में अब तक अजेय रही है। भारतीय पुरुष टीम ने हालांकि मलेशिया और डेनमार्क जैसी टीम को हराकर पहली बार फाइनल में जगह बनाई है और दिखाया है कि वे किसी भी टीम को हराने की क्षमता रखते हैं।

भारत के लिए यह एतिहासिक लम्हा है। अपने से बेहतर रैंकिंग वाली टीम के खिलाफ भारतीय खिलाड़ियों में आत्मविश्वास की कोई कमी नहीं दिखी और पिछले दो मैच में पिछड़ने के बावजूद टीम ने मानसिक मजबूती दिखाते हुए जीत दर्ज की।इंडोनेशिया की टीम ने टूर्नामेंट में अब तक कोई मुकाबला नहीं गंवाया है जबकि भारत को एकमात्र शिकस्त का सामना ग्रुप चरण में चीनी ताइपे के खिलाफ करना पड़ा।

इंडोनेशिया ने नॉकआउट चरण में जून और जापान को हराया तो भारत ने पांच बार के पूर्व चैंपियन मलेशिया और 2016 के विजेता डेनमार्क को शिकस्त दी।भारत के स्टार पुरुष खिलाड़ियों किदांबी श्रीकांत और एसएस प्रणय ने जिम्मेदारी अपने कंधों पर उठाई है और अब तक अपने सभी पांच मुकाबले जीते हैं। सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की पुरुष युगल जोड़ी ने भी प्रभावी प्रदर्शन किया है।

कृष्ण प्रसाद गारगा और विष्णुवर्धन गौड़ पंजाला की युवा जोड़ी कमजोर कड़ी साबित हुई है लेकिन मलेशिया और डेनमार्क के खिलाफ हार के दौरान इन्होंने कड़ी चुनौती पेश की।भारत फाइनल में दूसरी युगल जोड़ी के रूप में एक बार फिर एमआर अर्जुन और ध्रुव कपिला को उतार सकता है।इस जोड़ी ने राउंड रोबिन प्रारूप में दो मुकाबले खेले जिसमें से एक में उन्होंने जीत दर्ज की जबकि दूसरे में उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

टीम के साथ मौजूद पूर्व भारतीय कोच विमल कुमार ने पीटीआई को बताया, ‘‘हमारे पास काफी संतुलित टीम है, युगल खिलाड़ी काफी अच्छा योगदान दे रहे हैं। सभी खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया है और करीबी मुकाबलों में जीत दर्ज की है। इसलिए मुझे लगता है कि इंडोनेशिया के खिलाफ हमारे पास बराबरी का मौका है।उन्होंने कहा,यहां के हालात काफी अलग हैं, हॉल में काफी ड्रिफ्ट है इसलिए जो खिलाड़ी सामंजस्य बैठाएंगे उनके पास सफलता हासिल करने का बेहतर मौका होगा। यह महत्वपूर्ण है।

इंडोनेशिया के खिलाफ कुछ सर्वश्रेष्ठ युगल खिलाड़ी हैं और दुनिया की शीर्ष दो युगल जोड़ियों के तीन खिलाड़ी केविन संजय सुकामुल्जो, मोहम्मद अहसन और हेंद्रा सेतियावान उसके हैं।इसके अलावा फजर अलफियान और मोहम्मद रियान अरदियांतो की दुनिया की सातवें नंबर की पुरुष युगल जोड़ी भी इंडोनेशियाई है।चिराग और सात्विक ने हालांकि 2018 एशिया टीम चैंपियनशिप में सुकामुल्जो और अहसन को हराया था और डेनमार्क के महान खिलाड़ी मथियास बो की मौजूदगी में भारतीय जोड़ी एक बार फिर जीत दर्ज करने के इरादे से उतरेगी। (भाषा)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...