उपराष्ट्रपति ने शिक्षा की पहुंच और गुणवत्ता बढ़ाने के लिए प्रौद्योगिकी को काम में लाने का आह्वान किया

Share News

@ नई दिल्ली

उपराष्ट्रपति, एम. वेंकैया नायडु ने शिक्षा की पहुंच और गुणवत्ता बढ़ाने के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग करने का आह्वान किया। इस बात का जिक्र करते हुए कि किस प्रकार महामारी के दौरान ज्ञान को पहुंचाने के लिए नई सीमाएं खुली, नायडु ने कहा कि ‘डिजिटल उपकरणों ने शिक्षा को अधिक दिलचस्‍प और संवादात्मक बना दिया है’। उन्होंने बढ़ते डिजिटल विभाजन को खत्‍म करते हुए प्रौद्योगिकी में नई संभावनाओं की खोज करने का आह्वान किया।

महामारी के दौरान अध्‍ययन की निरंतरता सुनिश्चित करने में देश के शिक्षकों के योगदान की सराहना करते हुए, नायडु ने कहा कि उन्होंने तेजी से ऑनलाइन मोड में आकर शिक्षा की प्रक्रिया को जारी रखा। उन्‍होंने कहा, अध्‍यापकों ने अपने शानदार मिशन में विद्यार्थियों को केन्‍द्र में रखा और कम से कम नुकसान होने दिया। चेन्नई में द न्यू इंडियन एक्सप्रेस ‘थिंकएडु’ बैठक के 10वें संस्करण में भाग लेते हुए, नायडु ने इस बात की आवश्‍यकता पर जोर दिया कि ‘शिक्षा के अपने दृष्टिकोण के माध्यम से सोचने और अपने देश को हम ‘विद्या प्राप्ति राष्ट्र’ कैसे बना सकते हैं।

राष्‍ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी 2020) का भारत में शिक्षा परिदृश्य को बदलने के लिए एक रूपरेखा के रूप में जिक्र करते हुए,  नायडु ने कहा कि समग्र शिक्षा और देश में हमें शिक्षा को और अधिक एकीकृत करना चाहिए,  नायडु ने समग्र शिक्षा की आवश्यकता और देश के युवाओं के लिए रोजगार के नए रास्ते खोलने की आवश्‍यकता पर बल दिया। उप-राष्‍ट्रपति ने कहा, हमें शिक्षा को अधिक एकीकृत बहु-अनुशासनात्मक और प्रासंगिक बनाना चाहिए।

इस संबंध में उपराष्ट्रपति ने कहा कि कम से कम प्राथमिक स्तर तक मातृभाषा में शिक्षा बच्चों में शिक्षा के परिणामों को बढ़ावा देगी और उन्हें उनकी अमूर्त विरासत से जोड़ेगी। उन्होंने स्थानीय भाषाओं को प्रशासन और न्यायपालिका की भाषा के रूप में उपयोग करने का भी आह्वान किया।

नायडु ने सुझाव दिया कि ‘प्राचीन ज्ञान प्रणालियों के साथ-साथ कृत्रिम बुद्धिमत्ता जैसी समकालीन प्रगति पर ध्यान केंद्रित करने और कौशल शिक्षा पर जोर देने से एक ‘दृढ़ राष्‍ट्र’ की दिशा में भारत की प्रगति में तेजी आने की संभावना है।एक ‘दृढ़ राष्ट्र’ वह है जिसे केवल व्यापक ज्ञान आधार और कौशल की एक पूरी श्रृंखला को शामिल कर गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की नींव पर बनाया जा सकता है।  नायडु ने दोहराया, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा ऐसे ‘नए भारत’ के लिए सबसे आशाजनक मार्ग है जिसकी हम कल्‍पना करते हैं।

इस अवसर पर,  नायडु ने स्वतंत्रता के बाद से शिक्षा के सभी स्तरों पर साक्षरता दर में सुधार और सकल नामांकन अनुपात में लिंग समानता के करीब पहुंचने में भारत की उपलब्धियों का उल्लेख किया। उन्होंने कहा, हमारे पास जश्न मनाने के लिए बहुत कुछ है क्योंकि हम स्‍वतंत्रता के समय 18 प्रतिशत की साक्षरता दर से आगे बढ़कर 80 प्रतिशत पर पहुंच चुके हैं। नायडु ने कहा कि भारत दुनिया की सबसे बड़ी शिक्षा प्रणालियों में से एक है जिसने विभिन्न शैक्षणिक, वैज्ञानिक और कॉरपोरेट निकायों में दुनिया के कुछ सबसे प्रतिष्ठित नेतृत्व पदों पर कब्जा करने वाले कई दिग्गज पैदा किए हैं।

उपराष्ट्रपति ने ‘विश्व गुरु’ के अर्थ को फिर से परिभाषित करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा, हमें श्रेष्ठ भारत, सक्षम भारत, आयुष्मान भारत और आत्मनिर्भर भारत के निर्माण के लिए एक रोड मैप तैयार करना चाहिए। नीति निर्माताओं से ‘अधूरे साक्षरता कार्य’ पर ध्यान केन्‍द्रित करने का आग्रह करते हुए, उपराष्ट्रपति ने यूनेस्को द्वारा प्रतिपादित शिक्षा के सभी चार स्तंभों – जानने के लिए शिक्षा, कार्य करने के लिए शिक्षा, शिक्षा कैसी हो और मिल-जुलकर रहने की शिक्षा पर बराबर जोर देकर ‘एक अध्‍ययन सोसाइटी बनाने की आवश्‍यकता पर जोर दिया।

लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार के रूप में शिक्षा के उद्देश्यों में से एक को रेखांकित करते हुए,  नायडु ने शिक्षाविदों से ‘प्रतिभा को पोषित करने, उत्कृष्टता को पहचानने और एक अनुकूल वातावरण बनाने के लिए इस प्रक्रिया को बढ़ावा देने’ का आह्वान किया जहां नवाचार पनपेगा।

नायडु ने सम्‍मेलन को डिजिटल मोड में कराने के लिए आयोजकों की सराहना की और कहा कि वह इस शिखर सम्मेलन में हुई उच्च गुणवत्ता वाली चर्चाओं और विचार-विमर्श से प्रभावित हुए हैं। इस अवसर पर तमिलनाडु के सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री, थिरु टीएम अनबरसन, राज्यसभा सांसद, सुब्रमण्यम स्वामी, लोकसभा सांसद, शशि थरूर, द न्यू इंडियन एक्सप्रेस के संपादकीय निदेशक प्रभु चावला, द न्यू इंडियन एक्सप्रेस के सीईओ लक्ष्मी मेनन और अन्‍य लोग उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...