विकास कार्यों के प्रस्ताव प्राथमिकता एवं उपयोगिता के आधार पर तैयार करें : बोर्ड अध्यक्ष

Share News

@ जयपुर राजस्थान

डांग क्षेत्रीय विकास बोर्ड के अध्यक्ष लाखन सिंह मीणा की अध्यक्षता में शनिवार को शासन सचिवालय में डांग क्षेत्रीय विकास बोर्ड की समीक्षा बैठक आयोजित हुई। बैठक में डांग क्षेत्र के जिलों से प्राप्त विकास कार्यों के प्रस्तावों पर विस्तार से चर्चा करते हुए उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि आगामी 3 सप्ताह में विकास कार्यों के प्रस्तावों को प्राथमिकता एवं उपयोगिता के आधार पर पुनः संशोधित कर भिजवाये।
 
बैठक में वर्ष 2021-22 तक के विकास कार्यों की धरातल पर प्रगति एवं उन पर खर्च की गई राशि के बारे में विस्तार से चर्चा की गई। साथ ही आगामी वित्तीय वर्ष में किये जाने वाले विभिन्न विकास कार्यों के प्रस्तावों की कार्य योजना के बारे में अधिकारियों को निर्देश दिए। बोर्ड अध्यक्ष मीणा ने बताया कि डांग क्षेत्र में राशि का आवंटन गांवों की संख्या एवं क्षेत्रफल के आधार पर किया जाएगा जिसके प्रस्ताव पर चर्चा की गई। उन्होंने बताया कि इसे लागू करने के लिए  राज्य सरकार से अनुमति ली जायेगी। उन्होंने डांग क्षेत्र से संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि जहां पर विकास कार्यों की शुरूआत अब तक नहीं की गई है वहां उन कार्यों को निरस्त कर पुनः नये सिरे से शुरू करने के प्रस्ताव अतिशीघ्र बोर्ड के पास भेजें और चालू कार्यों को तय समय सीमा में पूरा करें। 
 
बैठक में डांग क्षेत्रीय विकास बोर्ड की ओर से हस्तशिल्पियों, दस्तकारों एवं महिला स्वयं सहायता समूहों के लिए स्थायी बाजार एवं प्रशिक्षण सुविधा के लिए आधारभूत संरचना उत्पादन केन्द्र व हाट बनाने के कार्यों पर भी चर्चा की गई। मीणा ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि बोर्ड में आधारभूत संरचनात्मक विकास के कार्यों का प्रस्ताव प्राथमिकता व उपयोगिता के आधार पर बनाए जाएं ताकि उनका लाभ आमजन को मिल सके। 
 
ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग की प्रमुख शासन सचिव अपर्णा अरोड़ा ने डांग क्षेत्र से संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि क्षेत्र के विकास कार्यों के प्रस्तावों को पुनः उपयोगिता एवं प्राथमिकता के आधार पर बनाकर भेजें ताकि विकास कार्यों की विस्तृत कार्य योजना बनाकर शुरू किया जा सके। साथ ही उन्होंने निर्देश दिए कि विकास कार्य के प्रस्ताव क्षेत्र की मांग व उपयोगिता के आधार पर बनाएं एवं ऎसे प्रस्ताव तैयार करें जो अन्य योजनाओं में जुड़े हुए नहीं है, ताकि उन्हें बोर्ड से जोड़कर करवाएं जाएं। बैठक में धौलपुर-करौली सासंद डॉ. मनोज राजोरिया, शासन सचिव ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज केके पाठक एवं डांग क्षेत्र विकास बोर्ड से संबंधित अधिकारी एवं जनप्रतिनिधी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...