एनएमडीसी ने साइबर सुरक्षा संबंधी जागरूकता पर वार्ता आयोजित की

Share News

@ हैदराबाद आंध्रा प्रदे

राष्ट्रीय खनिक एनएमडीसी ने हैदराबाद में अपने प्रधान कार्यालय में साइबर सुरक्षा को लेकर जागरूकता बढ़ाने के विषय पर एक वार्ता आयोजित की। कंपनी राष्ट्रीय साइबर सुरक्षा जागरूकता माह मना रही है देशभर में साइबर सुरक्षा को लेकर जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से सार्वजनिक और निजी कंपनियों द्वारा प्रत्येक वर्ष अक्टूबर में साइबर सुरक्षा माह आयोजित किया जाता है।

एनएमडीसी के सीएमडी  सुमित देब और निदेशक (वित्त)  अमिताभ मुखर्जी ने एनएमडीसी में एक सुरक्षित साइबर इंफ्रास्ट्रक्चर के निर्माण को प्रोत्साहित किया एनएमडीसी के पार्टनर (ई एंड वाई)  कृष्ण शास्त्री पी. ने मुख्य भाषण दिया।

एनएमडीसी के सीएमडी सुमित देब ने कहा कि भारत सरकार का डिजिटल इंडिया का विजन देश के लोगों और संगठनों को सशक्त बनाना है इसी विजन के अनुरूप एनएमडीसी डिजिटलीकरण और ऑटोमेशन की ओर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों और हितधारकों की सुरक्षा करना कंपनी की जिम्मेदारी है, क्योंकि वे डिजिटल दुनिया में सतर्क, जागरूक और सुरक्षित रहकर हमारी सुरक्षा करते हैं।

कृष्ण शास्त्री पी. ने साइबर अपराध के दुष्परिणाम और अगले दौर के संभावित हमलों पर आंकड़े प्रस्तुत किए और व्यक्तियों, संगठनों और देशों में साइबर अनुशासन बनाने की आवश्यकता पर प्रकाश डाला।उन्होंने कहा कि एनएमडीसी अपने डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण करती है, क्योंकि साइबर सुरक्षा आगे बढ़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। कंपनी ने एक मजबूत सूचना सुरक्षा प्रबंधन और शासन प्रणाली स्थापित की है। एनएमडीसी के कर्मचारियों को साइबर सतर्कता कायम करने के साथ-साथ कंपनी और देश के ‘फायरवॉल’ को मजबूत करना चाहिए।

एनएमडीसी के निदेशक (वित्त) अमिताभ मुखर्जी ने कहा कि यह कहना मुश्किल है कि हम आज प्रौद्योगिकी के स्वामी हैं या प्रौद्योगिकी के दास हैं, लेकिन तथ्य यह है कि प्रौद्योगिकी यहां स्थायी है। उपयोगकर्ता व्यवहार में बदलाव लाते हुए तकनीक के साथ अपने बर्ताव के बल पर इसका इस्तेमाल कर सकते हैं चूंकि एनएमडीसी के साइबर योद्धा हमारी रक्षा के लिए दिन-रात काम करते हैं, इसलिए हमें वेब पर भी जिम्मेदारी से व्यवहार करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...