घर में रह कर तोड़ें संक्रमण की चेन, 30 अप्रैल तक सुनिश्चित हो जनता कर्फ्यू : मुख्यमंत्री

Share News

संवाददाता : भोपाल मध्यप्रदेश

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रभारी मंत्री होम आयसोलेशन में रह रहे कोरोना मरीजों से फोन के माध्यम से सम्पर्क में रहें। इससे डिस्ट्रिक्ट कमाण्ड एण्ड कंट्रोल सेंटर की व्यवस्थाओं को सजग और निरंतर सक्रिय बनाने में मदद मिलेगी। होम आयसोलेशन और कोविड केयर सेंटर की व्यवस्था को बेहतर बनाकर इनमें जनता का विश्वास जगाना आवश्यक है। इससे कोरोना संक्रमण के कारण अस्पतालों पर बढ़ रहे बोझ को कम करने में मदद मिलेगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए जिले से लेकर प्रत्येक गाँव में 30 अप्रैल तक जनता कर्फ्यू का शत-प्रतिशत क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जाए। प्रभारी मंत्री इसके लिए सभी स्तरों पर आवश्यक वातावरण बनायें। इस संबंध में किसी भी स्तर पर कोई ढिलाई नहीं की जाए।

मुख्यमंत्री चौहान की अध्यक्षता में कोरोना संक्रमण पर आयोजित मंत्रि-परिषद की आपात बैठक में उक्त आशय के निर्णय लिए गए। मुख्यमंत्री चौहान ने निवास से बैठक को वर्चुअली संबोधित किया। बैठक वंदे मातरम गान के साथ आरंभ हुई। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान ने मंत्रि-परिषद के सम्मुख प्रदेश में कोरोना की स्थिति के संबंध में प्रस्तुतीकरण दिया।

मंत्रि-परिषद द्वारा निर्णय लिया गया कि रेमडेसिविर इंजेक्शन के उपयोग के संबंध में वरिष्ठ चिकित्सकों तथा विशेषज्ञों की सलाह से प्रोटोकॉल विकसित किया जाएगा। इसकी जिम्मेदारी चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग तथा लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी को सौंपी गई है।

मंत्रि-परिषद ने निर्णय लिया कि जिन विकासखंडों में कोरोना संक्रमित व्यक्ति तथा सर्दी, जुकाम और खांसी से प्रभावित व्यक्तियों की संख्या अधिक है वहाँ किल कोरोना अभियान-2 चलाया जाएगा। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता तथा स्वास्थ्य विभाग अमले के सहयोग से घर-घर सर्वे कर प्रभावित व्यक्तियों को चिन्हित किया जाएगा। ऐसे व्यक्तियों को मेडिकल किट उपलब्ध कराने, उपयुक्त जाँच कराने और आवश्यकता होने पर उनके होम आयसोलेशन या कोविड केयर सेंटर में रखने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी। गाँवों में चौकीदारों को यह जिम्मेदारी सौंपी जाएगी कि वे सर्दी, जुकाम से प्रभावित व्यक्तियों की तत्काल सूचना दें।

मंत्रि-परिषद ने निर्णय लिया कि कोरोना संक्रमण और उससे बचाव के संबंध में सही जानकारी उपलब्ध कराने और जन-जागरूकता के लिए पेम्फलेट विकसित कर वितरण कराया जाएगा। रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए काढ़ा वितरण कार्यक्रम तथा योग से निरोग कार्यक्रम आरंभ किया जाएगा। इसके साथ ही मीडिया में सकारात्मक, तथ्यपरक और सही जानकारी आए, इसके लिए जिला स्तर पर व्यवस्था स्थापित की जाएगी।

मंत्रि-परिषद द्वारा निर्णय लिया गया कि कोरोना संक्रमण के विरूद्ध युद्ध में लगे डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ की समानंतर व्यवस्था विकसित करने के लिए पात्र व्यक्तियों के आवश्यक प्रशिक्षण सत्र आयोजित किए जाएंगे। डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ के उत्साह को बनाए रखने के लिए विशेष कार्यक्रम आयोजित होंगे।

मंत्रि-परिषद ने निर्णय लिया कि गावों में कोरोना संक्रमण की संभावनाओं को कम करने के लिए पृथक उप स्वास्थ्य केन्द्रों में डिलेवरी की व्यवस्था की जाएगी, इससे प्रसूताओं को संक्रमण की संभावना से बचाया जा सकेगा। मंत्रि-परिषद ने राशन दुकानदारों के टीकाकरण के लिए विशेष कार्यक्रम चलाने की संभावना पर विचार किया।

मंत्रियों को दी गई जिम्मेदारी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रि-परिषद की बैठक में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए राज्य स्तर पर मंत्रियों को कार्य सौंपे। मंत्री गोपाल भार्गव को प्रदेश में कोविड केयर सेंटर और ऑक्सीजन प्लांट के निर्माण की कार्रवाई को समय-सीमा में पूर्ण कराने का दायित्व सौंपा गया। मंत्री तुलसीराम सिलावट इंदौर में राधा स्वामी सत्संग ब्यास परिसर में बन रहे 2000 बिस्तर के अस्पताल का प्रभावी संचालन और इसी प्रकार के अन्य कोविड-केयर सेंटर का निर्माण देखेंगे। मंत्री विजय शाह प्रदेश में होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों को मेडिकल किट ब्रोशर का वितरण और दिन में दो बार डॉक्टरों के कॉल और चिकित्सा सलाह को सुनिश्चित करेंगे। इस कार्य मे स्वास्थ्य विभाग और नगरीय प्रशासन की टीम भी रहेगी। मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, मंत्री भूपेंद्र सिंह और मंत्री ओपीएस भदौरिया इसका समन्वय करेंगे।

मंत्री भूपेंद्र सिंह बीना रिफाइनरी के पास बन रहे 1000 बिस्तर के निर्माण का समन्वय करेंगे। मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह प्रदेश में कोविड केयर सेंटर्स में रह रहे मरीजों को मेडिकल किट ब्रॉशर का वितरण, चिकित्सा सलाह योग प्राणायाम, भोजन आदि की सुविधाएँ सुनिश्चित करेंगे। मंत्री डॉ. महेंद्र सिंह सिसोदिया प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड के संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए आवश्यक उपाय, गाँव में होम आइसोलेशन और कोविड-19 सेंटर में मरीजों को मेडिकल किट, ब्रॉशर का वितरण देखेंगे। इस कार्य में मंत्री रामखेलावन पटेल का सहयोग रहेगा।

मंत्री विश्वास सारंग भोपाल में विभिन्न संस्थाओं के सहयोग से कोविड केयर सेंटर का निर्माण और भोपाल के अस्पतालों में बिस्तर बढ़वाने का कार्य देखेंगे। मंत्री सु उषा ठाकुर जन अभियान परिषद के सहयोग से ‘मैं कोरोना वालंटियर’ अभियान का प्रभावी क्रियान्वयन और वॉलिंटियर का कोरोना कार्यों में प्रभावी उपयोग सुनिश्चित करेंगी। मंत्री अरविंद भदौरिया को प्रदेश में राज्य के बाहर से ऑक्सीजन की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित करने का दायित्व दिया गया है। राज्य मंत्री राम किशोर कांवरे राज्य के एक करोड़ परिवारों को रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए काढ़े के नि:शुल्क वितरण की व्यवस्था और योग से निरोग अभियान का प्रभावी क्रियान्वयन देखेंगे। मंत्री डॉ. राजवर्धन सिंह दत्तीगांव उद्योगों से ऑक्सीजन की आपूर्ति के संबंध में समन्वय देखेंगे। मंत्री ओपीएस भदौरिया नगरों में कोविड संक्रमण रोकने के उपाय, नगरों का सैनेटाईजेशन, नगरों में होम आइसोलेशन की व्यवस्था और मेडिकल किट वितरण का कार्य देखेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...