माँ जगदम्बा मन्दिर नरौली, करौटा, बख्तियारपुर,पटना, बिहार भाग:३२०,पँ० ज्ञानेश्वर हँस “देव” की क़लम से

Share News

भारत के धार्मिक स्थल : माँ जगदम्बा मन्दिर नरौली, करौटा, बख्तियारपुर, पटना, बिहार भाग:३२०

आपने पिछले भाग में पढ़ा होगा भारत के धार्मिक स्थल : तिरुपति बालाजी मन्दिर, ज़िला:चित्तूर, काँचीपुरम, आँध्रप्रदेश! यदि आपसे उक्त लेख छूट गया या रह गया हो तो आप कृपया करके प्रजा टूडे की वेब साईट पर जाकर www.prajatoday.com धर्मसाहित्य पृष्ठ पढ़ सकते हैं! आज हम प्रजाटूडे समाचारपत्र के अति-विशिष्ट पाठकों के लिए लाए हैं:

 भारत के धार्मिक स्थल : माँ जगदम्बा मन्दिर, नरौली, करौटा, बख्तियारपुर, पटना, बिहार भाग:३२०

पाठकों को शारदीय नवरात्रि पर माँ नवदुर्गा देवी के पावन समापन दिवस की सिद्धिदात्री माँ की हार्दिक बधाइयाँ, जगदम्बा देवी माता रानी आपके सकल मनोरथ पूर्ण करे! जयमातादी!!

जगदम्बा मन्दिर में यूँ तो वर्ष भर उमड़ती है नि:संतान दंपतियों की अपार भीड़, परन्तु माँ के पावन पुनीत पुण्यशाली नवरात्रों में यहाँ असँख्य भीड़ होती है! जगदम्बा माँ की असीम कृपा से यहाँ भरती है बेऔलादों की गोद! पटना के बख्तियारपुर प्रखण्ड के नौली स्थित माँ जगदम्बा मन्दिर के बारे में कहा जाता है, यहाँ आने वाले कभी भी ख़ाली हाथ नहीं लौटते हैं। माँ जगदम्बा सबकी मनोकामनाएँ पूरी करती है। इस मन्दिर में उमड़ती है नि:सँतान दम्पतियों की अपार भीड़, माँ की कृपा से सबकी ही भर जाती है गोद! इस मन्दिर में उमड़ती है नौजवान-वयो-वृद्ध नि:संतान दम्पतियों की भीड़, माँ जगदम्बा की असीम कृपा से विश्वास कीजिए भरती है गोद!
इस मन्दिर में उमड़ पड़ती है नि:संतान दंपतियों की भीड़, माँ की कृपा से भरती है गोद!

बिहार के पटना में बख्तियारपुर ज़िले में, प्रखण्ड के नरौली स्थित माँ जगदम्ब देवी के मन्दिर के बारे में कहा जाता है कि यहाँ जो-जो भक्त अपनी-अपनी मनोकामनाएँ लेकर आते हैं, उन सबकी इच्छाएँ मनोकामनाएँ माँ पूरी करती है। यहाँ विशेषकर नि:संतान दम्पतियों की बड़ी भीड़ रहती है। कुँवारे लड़के लडकियों की भी यहाँ भरमार रहती है! महिलाएँ मानती हैं कि माँ के दर्शन से उनकी सूनी गोद भर जाती है।

मन्दिर का इतिहास :

इस मन्दिर में माँ जगदम्बा की काले पत्थर की प्रतिमा है जो एक पीपल वृक्ष से प्रकट होती प्रतीत होती है। कहा जाता है कि यह प्रतिमा हज़ारों वर्ष पुरानी है। कभी यहाँ भव्य मन्दिर था। जिसे नालंदा विजय अभियान के दौरान बख्तियार खिलजी ने ध्वस्त कर दिया था।

वर्तमान में मन्दिर परिसर में कई अन्य मन्दिर भी बना है। तालाब में स्थापित भगवान विष्णु एवं लक्ष्मी की प्रतिमा के साथ ही यहाँ भगवान सूर्य, हनुमान एवँ भोलेनाथ का अलग-अलग मन्दिर है। साथ ही भक्तों के सहयोग से भव्य धर्मशाला का निर्माण भी किया गया है। प्रत्येक नवरात्र पर होती है विशेष भीड़!

वैसे तो मन्दिर में साल भर भक्त दर्शन-पूजन करने आते हैं, मगर नवरात्र में भीड़ काफी बढ़ जाती है। मङ्गलवार और शनिवार को यहाँ मेले जैसा दृश्य दिखता है। पूजा-पाठ के लिए काफी भक्तों की भीड़ जुटती है। नवरात्र के दौरान पूरा मन्दिर भक्ती गीतों से गूंज उठता है।

माँ जगदम्बा मनोकामना पूर्ण करें:

माँ जगदम्बा परिसर में भक्तों की पूजा अर्चना हेतु व्यापक स्तर पर व्यवस्था की गई है। यहाँ महिला एवँ पुरुष भक्तों के लिए अलग- अलग कतार में लगकर पूजा- अर्चना करने की व्यवस्था है। श्रद्धालुओं का मानना है कि इस मन्दिर के दर्शन मात्र से इच्छाएं पूर्ण हों जातीं हैं। माँ जगदम्बा सबकी मनोकामना पूर्ण करती हैं!

माँ जगदम्बा स्तुति :

अति देर हुई विनती करते अविलम्ब सुसिंह लिए चलती माँ
कर पूरन काज अखण्ड जगी जगदम्ब कुपुत्र कृपा करती माँ।।

चमके मुख मण्डल चन्द्र छटा कुसुमेश कुदर्प विखण्ड करी हो
सुर तारण दैत्य विदारण को हरि वाहन पुण्य लिए फिरती माँ।।

भुज अष्ट सशस्त्र सजी जननी शशि कौमुदी खड्ग धरी हननी हो
विपदा हरती जग संग प्रसून लिए जननी भजता मिलती माँ।।

त्रुटि मोर भयी कितनी कहती अपराध भुलाय सु अंक धरो री
जग तारिणि तार दयी सब भक्त गहूं तव पाद मुझे तरती माँ।।

तव रुप सजाय सदा जगदम्ब सुलोचन दीन-दुखी जपता हूं
त्यज लाज समाज भजूं तुमको बन पागल खेल करुं कहती माँ।।

कर मंगल शत्रु अशत्रु सदा जग भिक्षुक पात्र सदा भर दो री
करुणा करती करुणामयि तुम तुमसे कछुऔर नहीं विनती माँ।।

अपमान सुमान प्रसाद मिले जननी तव हाथ सुधा समझूंगा
कर खण्ड कुदोष अशीष सदा फलदे फलदायिनि भवफलती माँ।।

तन इन्द्रिय सौंप दिया तुमको कालिका तव रुप नहीं दिखता है
छवि आपन मोर दिखाय ज़रा ममतामयि हे स्वकृपा करती माँ।।

पता: माँ जगदम्बा मन्दिर

ज़िला: बख्तियारपुर (प्रखण्ड के नौली स्थित) माँ जगदम्बा मन्दिर, नरौली, करौटा, पटना, बिहार:803202

कैसे पहुँचे मन्दिर

बख्तियारपुर के करौटा स्टेशन से एक किलोमीटर दक्षिण की ओर एवँ बख्तियारपुर फोरलेन से सटे नरौली गाँव के दक्षिण में यह माँ का मन्दिर है। यह पटना से करीब चालीस किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। मन्दिर पहुँचने के लिए आटो-रिक्शा व स्थानीय बस की व्यवस्था भी है।

हवाई मार्ग से कैसे पहुँचें :
आप पटना के जयप्रकाश नारायण हवाईअड्डे से कैब द्वारा पहुँच सकते हैं, माँ जगदम्बा देवी मन्दिर!

लोहपथगामिनी मार्ग से कैसे पहुँचें :

मां जगदम्बा का मन्दिर। करौता रेलवे स्टेशन के पास पटना जंक्शन से ३५ किलोमीटर दूर है। यहाँ हर मंगलवार और शनिवार को बहुत सारे लोग माँ जगदम्बा की पूजा करने आते हैं, यह मन्दिर बहुत पुराना है और देश भर में प्रसिद्ध है। लोग मनोकामना को पूरा करने के लिए यहाँ आते हैं! माँ के साथ अपनी इच्छा साझा करते हैं माँ जगदम्बा सबकी मनोकामनाएँ पूर्ण करती हैं!

सड़क मार्ग से कैसे पहुँचें :

दिल्ली के ISBT से आप अपनी कार बाइक या बस से आते हैं तो NH : आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे तथा पूर्वांचल एक्सप्रेसवे द्वारा आप १०८९.९ किलोमीटर की यात्रा करके १६ घण्टे ३६ मिनट्स में पहुँच सकते हैं माँ जगदम्बा जी के मन्दिर।

माँ जगदम्बा की जय हो। जयघोष हो।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...