प्राचीन हनुमान मन्दिर,आईं०पी० एक्सटेंशन, पूर्वी दिल्ली, नई दिल्ली भाग : ३०७,पँ० ज्ञानेश्वर हँस “देव” की क़लम से

Share News

भारत के धार्मिक स्थल : प्राचीन हनुमान मन्दिर, आईं०पी० एक्सटेंशन, पूर्वी दिल्ली, नई दिल्ली भाग : ३०७

आपने पिछले भाग में पढ़ा होगा भारत के धार्मिक स्थल: भारत के धार्मिक स्थल : जटोली शिव मन्दिर, हिमाचल प्रदेश! यदि आपसे उक्त लेख छूट अथवा रह गया हो तो आप प्रजा टुडे की वेबसाईट http://www.prajatoday.com पर जाकर धर्म साहित्य पृष्ठ पर जाकर पढ़ सकते हैं! आज हम प्रजा टुडे के अति विशिष्ट पाठकों के लिए लाए हैं!

भारत के धार्मिक स्थल : प्राचीन हनुमान मन्दिर, आईं०पी० एक्सटेंशन, पूर्वी दिल्ली, नई दिल्ली!भाग : ३०७

हनुमान मन्दिर, आई०पी० ​​एक्सटेंशन पूर्वी दिल्ली में सबसे पुराना श्री हनुमान मंदिर है। हर महीने के अंतिम मंगलवार और शनिवार को भंडारा होता है यहाँ। प्रत्येक शुक्ल एकादशी को श्री श्याम बाबा जी के भजन यहाँ होते हैं। प्राचीन श्री हनुमान मन्दिर पूर्वी दिल्ली का सबसे पुराना हनुमान लला जी का मन्दिर है। श्री हनुमंत मूर्ति १९७० के दशक में पवित्र यमुना नदी में भारी बाढ़ के बाद प्रकट हुई थी श्री हनुमान जी की मूर्ति!

हनुमानजी मन्दिर द्वारा प्रत्येक मङ्गलवार और शनिवार को मासिक आधार पर नियमित भंडारे का भोग लगाया जाता है। मन्दिर श्री श्याम बाबा के आशीर्वाद से प्रत्येक शुक्ल पक्ष की एकादशी पर भजन और कीर्तन के लिए भी प्रसिद्ध है। कई प्रसिद्ध भजन गायक यहाँ अपना गायन प्रस्तुत कर चुके हैं!

इस प्राचीन श्री हनुमान मन्दिर में, मङ्गलवार को हमेशा भक्तों की भीड़ लगी रहती है आमतौर पर शाम ७ से ८ बजे के बीच भीड़ रहती है। मन्दिर का प्रसाद बहुत अच्छा है! यह प्राचीन श्री हनुमान मन्दिर वास्तव में बहुत ही अद्भुत और दिव्य पूजा स्थल है। प्रचलित नाम प्राचीन श्री हनुमान मन्दिर में हनुमानचालीसा, बालाजी आरती, सङ्कट मोचन, हनुमानाष्टक, श्री बजरंग बाण- पाठ, श्री हनुमान आरती, मङ्गलवार व्रत कथा होती है! हनुमान जयँती के दिल्ली के प्रसिद्ध हनुमान बालाजी मन्दिर हनुमान द्वादश नाम स्तोत्रम: मंत्र का जप होता है! हनुमानजी की उपासना से आयु वृद्धि होती है! बालक बुद्धिमान होते हैं!

गोस्वामी तुलसीदास रचित हनुमान स्तुति :

||श्री हनुमान स्तुति||

मंगल मूरति मारुत नंदन ।
सकल अमंगल मूल निकंदन ॥ १ ॥

पवनतनय संतन हितकारी ।
ह्रदय बिराजत अवध बिहारी ॥ २ ॥

मातु-पिता गुरु गणपति सारद ।
शिवा-समेत शम्भु, शुक्र नारद ॥ ३ ॥

चरन कमल बिन्धौ सब काहु ।
देहु रामपद नेहु निबाहु ॥ ४ ॥

बंधन राम लखन वैदेही ।
यह तुलसी के परम सनेही ॥ ५ ॥

~ सियावर रामचंद्रजी की जय ~
जाके गति है हनुमान की ।
ताकी पैज पुजि आई, यह रेखा कुलिस पषान की ।।

अघटित-घटन, सुघट-बिघटन, ऐसी बिरूदावलि नहिं आनकी ।
सुमिरत संकट-सोच-बिमोचन, मूरति मोद-निधानकी ।।

तापर सानुकूल गिरिजा, हर, लषन, राम अरू जानकी ।
तुलसी कपि की कृपा-विलोकनि, खानि सकल कल्यानकी ।।

॥ॐ श्री राम ॥
॥ॐ श्री हनुमते नमः ॥

आरती श्री हनुमान जी :

आरती कीजै हनुमान लला की।दुष्ट दलन रघुनाथ कला की॥

जाके बल से गिरिवर कांपे।रोग दोष जाके निकट न झांके॥

अंजनि पुत्र महा बलदाई।सन्तन के प्रभु सदा सहाई॥

आरती कीजै हनुमान लला की।दे बीरा रघुनाथ पठाए।

लंका जारि सिया सुधि लाए॥लंका सो कोट समुद्र-सी खाई।

जात पवनसुत बार न लाई॥आरती कीजै हनुमान लला की।

लंका जारि असुर संहारे।सियारामजी के काज सवारे॥

लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे।आनि संजीवन प्राण उबारे॥

आरती कीजै हनुमान लला की।पैठि पाताल तोरि जम-कारे।

अहिरावण की भुजा उखारे॥बाएं भुजा असुरदल मारे।

दाहिने भुजा संतजन तारे॥आरती कीजै हनुमान लला की।

सुर नर मुनि आरती उतारें।जय जय जय हनुमान उचारें॥

कंचन थार कपूर लौ छाई।आरती करत अंजना माई॥

आरती कीजै हनुमान लला की।जो हनुमानजी की आरती गावे।

बसि बैकुण्ठ परम पद पावे॥आरती कीजै हनुमान लला की।

दुष्ट दलन रघुनाथ कला की॥

जानकारियां –

दर्शन समय ५:०० से १२:00 अपराह्न
सायँ ४ :०० से रात्रि – १०:००
६:०० बजे: आरती
६:३० बजे: सर्दी: आरती
६:३० बजे: सर्दी: संध्या आरती
७:०० बजे: संध्या आरती

त्यौहार :

दुर्गा पूजा, नवरात्रि, दीवाली, हनुमान जयन्ती, शिवरात्रि, कृष्णजन्माष्टमी, सरस्वती-पूजा, गणेशोत्सव,

प्राचीन हनुमान मन्दिर का पता:

मधु विहार, आई पी एक्सटेंशन, पटपड़गंज, नई दिल्ली

 हवाई मार्ग से कैसे पहुँचें :

बाय एयर, निकटतम कामकाजी
हवाई मार्ग यानी वायुयान मार्ग से
निकटतम घरेलू हवाई अड्डा पालम दिल्ली का इन्दिरगाँधी हवाई अड्ड़ा है! हवाईअड्डे के बाहर से कैब द्वारा २५किलोमीटर की यात्रा करके आप आसानी से ३९ मिनट्स में पहुँच सकते हैं।

दिल्ली मेट्रो, लोहपथगामिनी मार्ग से कैसे पहुँचें :

नई दिल्ली के आई०पी० एक्सटेंशन पहुँचने के लिए आप मेट्रो रेल से ब्ल्यु लाईन से आसानी से पहुँच सकते हैं!

सड़क मार्ग से कैसे पहुँचें :

आप ISBT से बस द्वारा अथवा अपनी कार से NH : बाबा बन्दा बहादुर सेतु से पँहुँच सकते है प्राचीन हनुमान मन्दिर। इस मन्दिर की निकटवर्ती सड़कें यहाँ की सड़कें बेहतर है! ISBT दिल्ली से २५ किलोमीटर दूर इस मन्दिर में आप ३९ मिनट्स में पहुँच सकते हैं।

हनुमान जी की जय हो। जयघोष होII

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
track image
Loading...