एफटीआईआई (FTII) के छात्र ने 77वें कान्स फिल्म महोत्सव में ‘ला सिनेफ’ पुरस्कार जीता

@ प्रजा दत्त डबराल नई दिल्ली

भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान FTII के छात्र चिदानंद नाइक की कोर्स के अंत में बनाई गई फिल्म “सनफ्लॉवर वर द फर्स्ट वन्स टू नो” को फ्रांस में 77वें कान्स फिल्म महोत्सव में सर्वश्रेष्ठ लघु फिल्म के लिए कान्स ला सिनेफ पुरस्कार मिला है। विजेता की आधिकारिक घोषणा 23 मई, 2024 को महोत्सव में की गई जहां छात्र निदेशक श्री चिदानंद नाइक ने पुरस्कार प्राप्त किया।

फिल्म का निर्देशन चिदानंद एस नाइक ने, फिल्मांकन सूरज ठाकुर ने किया है, संपादन मनोज वी ने और ध्वनि अभिषेक कदम ने दी है।

यह भारतीय सिनेमा के लिए एक ऐतिहासिक क्षण है। भारतीय फिल्मों को अंतर्राष्ट्रीय मंच पर प्रशंसा मिल रही है, विशेष रूप से FTII ने पिछले कुछ वर्षों में कान्स महोत्सव में अपने छात्रों की फिल्मों की स्क्रीनिंग के साथ उल्लेखनीय रूप से अच्छा प्रदर्शन किया है।

FTII छात्रों की एक और फिल्म ‘कैटडॉग’ के 73वें कान्स में पुरस्कार जीतने के चार साल बाद मौजूदा मान्यता मिली है। 77वें कान्स फिल्म महोत्सव में विभिन्न श्रेणियों में भारत से कई प्रविष्टियाँ देखी गईं। FTII के कई पूर्व छात्र जैसे पायल कपाड़िया, मैसम अली, संतोष सिवन, चिदानंद एस नाइक और उनकी टीम को इस साल के कान्स में पहचान मिली।

“सनफ्लॉवर वर द फर्स्ट वन्स टू नो” एक बुजुर्ग महिला की कहानी है जो गांव का मुर्गा चुरा लेती है, जिससे समुदाय में अशांति फैल जाती है। मुर्गे को वापस लाने के लिए, एक भविष्यवाणी की जाती है, जिसमें बूढ़ी महिला के परिवार को निर्वासन में भेज दिया जाता है।

यह FTII फिल्म टीवी विंग के एक साल के कार्यक्रम का निर्माण है जहां विभिन्न विषयों यानी निर्देशन, इलेक्ट्रॉनिक सिनेमैटोग्राफी, संपादन, ध्वनि के चार छात्रों ने साल के अंत में समन्वित अभ्यास के रूप में एक परियोजना के लिए एक साथ काम किया। फिल्म का निर्देशन चिदानंद एस नाइक ने, फिल्मांकन सूरज ठाकुर ने, संपादन मनोज वी ने किया है और ध्वनि अभिषेक कदम ने दी है। इन छात्रों ने अपने अंतिम वर्ष के सम्मिलित अभ्यास के हिस्से के रूप में फिल्म पर काम किया और 2023 में FTII से पास हुए।

यह पहली बार है कि FTII के 1-वर्षीय टेलीविजन पाठ्यक्रम के किसी छात्र की फिल्म को प्रतिष्ठित कान्स फिल्म फेस्टिवल में चुना गया और जीता गया। 2022 में FTII में शामिल होने से पहले, चिदानंद एस नाइक को 53वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) में 75 क्रिएटिव माइंड्स में से एक के रूप में भी चुना गया था, जो सिनेमा के क्षेत्र में उभरते युवा कलाकारों को पहचानने और सहयोग करने के लिए सूचना और प्रसारण मंत्रालय की एक पहल थी।

FTII के अध्यक्ष श्री आर. माधवन ने फिल्म की पूरी छात्र इकाई को बधाई दी है। उन्होंने कहा, इस बेहद प्रतिष्ठित सम्मान के लिए श्री चिदानंद नाइक और सनफ्लॉवर वर द फर्स्ट वन्स टू नो” की पूरी टीम को बधाई। यही कामना है कि वह अपनी असाधारण पहचान बनाए और प्यार के साथ एक शानदार करियर की शुरुआत करे। साथ ही, ऐसी विश्व स्तरीय प्रतिभा को निखारने के लिए FTII के सभी कर्मचारियों और प्रशासन को बहुत-बहुत बधाई और अभिवादन।”

‘ला सिनेफ़’ उत्सव का एक आधिकारिक खंड है जिसका उद्देश्य नई प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करना और दुनिया भर के फिल्म स्कूलों की फिल्मों को मान्यता देना है। यह फिल्म दुनिया भर के 555 फिल्म स्कूलों द्वारा प्रस्तुत कुल 2,263 फिल्मों में से चुनी गई 18 लघु फिल्मों (14 लाइव-एक्शन और 4 एनिमेटेड फिल्मों) में से एक थी।

FTII की अनूठी शिक्षाशास्त्र और सिनेमा और टेलीविजन के क्षेत्र में शिक्षा के लिए अभ्यास आधारित सह-शिक्षण दृष्टिकोण पर ध्यान केंद्रित करने के परिणामस्वरूप संस्थान के छात्रों और इसके पूर्व छात्रों ने पिछले कुछ वर्षों में विभिन्न राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोहों में प्रशंसा हासिल की है। इस प्रतिष्ठित पुरस्कार का मिलना भारतीय सिनेमा के लिए एक ऐतिहासिक उपलब्धि है। भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फिल्म स्कूलों में से एक है और आज इसने भारत को गौरवान्वित किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

LIVE OFFLINE
track image
Loading...